हनुमान जी की ऐसी तस्वीर लगाने से घर में होगा मगंल ही मंगल, बजरंगबली की कृपा से खुल जाएगी तकदीर

प्रभु श्रीराम भक्त, हनुमान जी की महिमा अपरमपार है, माना जाता है कि हनुमान जी कलयुग में भी जीवित है और जो भक्त सच्चे मन से इनका स्मरण करते हैं, बजरंगबली उन पर अपनी कृपा बरसाते हैं। वैसे तो हनुमान जी का हर रूप मंगलकारी माना गया है, चाहें वो संजीवनी पर्वत उठाए हुए हो या अपनी गदा के जरिए शत्रुओं का नाश करते या फिर प्रभु श्रीराम के चरणों में सेवक के रूप में बैठे हुए हो, इनके हर रूप का दर्शन करना शुभ फलदायी है। ऐसे में घर में बजरंगबली की तस्वीर लगाना बेहद मंगलकारी माना जाता है, विशेषकर इनके कुछ रूपों की छवि घर में लगाने से शुभता होती है, जिससे आपके सारे कष्ट दूर हो जाते हैं और जीवन में तरक्की और सफलता के मार्ग प्रशस्त होते हैं। आज हम आपको इसी के बारे में बताने जा रहे हैं, कि घर में हनुमान जी कि कैसी तस्वीर लगानी चाहिए और कैसे लगानी चाहिए।

जी हां, बजरंगबली की तस्वीर लगाते समय कुछ बातों का ध्यान रखना भी आवश्यक है नहीं तो ये आपके लिए फलदायी होने की बजाए कष्ट का कारण बन सकती है।जैसे हनुमान जी की तस्वीर या मूर्ति कभी भी घर के बेडरूम यानी शयनकक्ष में नहीं लगानी चाहिए, क्योंकि बजरंगबली बाल ब्रम्हचारी माने गए हैं। ऐसे में इनकी तस्वीर भूलकर भी शयनकक्ष, स्नानगृह में ना लगाए, बल्कि हमेशा हनुमान जी की तस्वीर घर के मंदिर, आंगन या बैठकघर में लगाएं।

साथ ही हनुमान जी तस्वीर लगाते समय दिशा का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए। धर्म और ज्योतिष के जानकारों की माने तो बजरंगबली का प्रताप दक्षिण दिशा में सबसे अधिक प्रभावी होता है, इसलिए इसे दक्षिण दिशा में ही लगाएं। दरअसल लंका दक्षिण में है और हनुमान जी सीता माता की खोज में भी दक्षिण दिशा में ही गए थे, जहां उन्होने अपने पराक्रम से पूरी लंका को धराशायी कर दिया था। ऐसे में दक्षिण दिशा में स्थापित हनुमान जी की तस्वीर भी कई गुना शुभ फलदायी साबित होती है।

या फिर आप उत्तर दिशा में भी हनुमान जी की तस्वीर ऐसे लगा सकते हैं कि उसका मुख दक्षिण की ओर हो, इससे दक्षिण की तरफ से आने वाली बुरी ताकत को बजरंगबली रोक देते हैं। साथ ही इस दिशा में लगी बजरंगबली की छवि से घर में सुख और समृद्धि का वास होता है।

वहीं अगर पंचमुखी हनुमानजी की तस्वीर घर के मुख्य द्वारा पर लगाई जाए तो इससे घर में किसी भी तरह की बुरी शक्ति प्रवेश नहीं करती है। इसके अलावा पंचमुखी हनुमानजी की तस्वीर हमेशा ऐसी जगह भी लगाए जहां से सबको ये नजर आए।

वहीं जिस तस्वीर में हनुमान जी अपनी विराट शक्ति का प्रदर्शन कर रहे हो, उसे घर में लगाने से दुश्मनों पर विजय प्राप्त होती है।

जबकि बैठक रूप में प्रभु श्रीराम दरबार के चरणों में बैठे हनुमान जी की तस्वीर लगाएं , इससे आपके सामाजिक मान-सम्मान में वृद्धी होगी।

वैसे आप बैठक रूम में पंचमुखी हनुमानजी का चित्र या पर्वत उठाए हुए हनुमानजी का चित्र भी लगा सकते हैं, पर ध्यान रहे कि  इनमें से कोई एक ही चित्र ही लगाना है।  पर्वत उठाए हुए हनुमान जी का चित्र घर में लगाने से व्यक्ति में साहस, पराक्रम, विश्‍वास और जिम्मेदारी का विकास होता है और बजरंगबली की कृपा से आप में किसी भी तरह की परिस्थितियों का सामना करने कि शक्ति उत्पन्न होती है।

वहीं आकाश में उड़ते हुए हनुमान जी का चित्र लगाने से जीवन में उन्नती और तरक्की का मार्ग बनाता है। इससे आपमें आगे बढ़ने का उत्साह और साहस का संचार होगा और आप निरंतर सफलता के मार्ग पर बढ़ते जाएंगे।

जबकि प्रभु श्रीराम का भजन करते हुए हनुमान जी का चित्र लगाने से व्यक्ति में भक्ति और विश्‍वास का संचार होता है।