आचार्य चाणक्य जी के ऐसे 16 विचार, जो आपकी जिंदगी बदल सकती है

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि हमारे शास्त्र हमारे जीवन का आधार होते हैं हमारे शास्त्रों में व्यक्ति के जीवन के अलग-अलग पहलुओं के विषय में बात की गई है शास्त्रों में लिखी हुई यह बातें व्यक्ति के जीवन को कई गुना अच्छा बना सकती है आज हम आपको इस लेख के माध्यम से आचार्य चाणक्य जी के ऐसे 16 विचारों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जिससे व्यक्ति का जीवन बदल जाएगा।

आइए जानते हैं आचार्य चाणक्य जी के यह 16 विचार:-

  • जो व्यक्ति बुद्धिमान होता है वह कभी भी अपने घर और अपनी आय के विषय में अन्य व्यक्तियों को नहीं बताता है यदि ऐसा किया जाए तो लोगों के बीच खटास पैदा होती है साथ ही ऐसा करने से आपस में जलन और द्वेष भी बढ़ता है कोई भी बुद्धिमान व्यक्ति अपनी आय का ढिंढोरा नहीं पीटते है और ना ही अपने खर्चों का रोना रोता है।

  • जो व्यक्ति बुद्धिमान होता है वह कभी भी अपनी पत्नी के बारे में दूसरे पुरुषों से बात नहीं करता है और ना ही उसकी कमियों और बुराइयों के बारे में अन्य लोगों को बताता है।
  • बहुत से लोगों में यह देखा गया है कि वह अपनी हर छोटी से बड़ी परेशानियों को अन्य व्यक्तियों को बताते हैं परंतु जो व्यक्ति बुद्धिमान होता है वह कभी भी ऐसा नहीं करता है यदि ऐसा किया जाए तो सामने वाला आपको कमजोर समझने लगता है।

  • आपको बता दें कि मनुष्य अकेले पैदा होता है और अकेले ही मर जाता है आचार्य चाणक्य जी के अनुसार अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल खुद ही भुगतना पड़ता है और वह अकेले ही नर्क या स्वर्ग में जाता है।
  • आचार्य चाणक्य जी के अनुसार भगवान मूर्तियों में नहीं मिलते हैं आपकी अनुभूति ही आपका ईश्वर है और आत्मा आपका मंदिर है।
  • आचार्य चाणक्य जी के अनुसार इस बात को व्यक्त नहीं होना होने देना चाहिए कि आपने क्या करने का विचार बना रखा है बुद्धिमानी से इसे राहत से बनाए रखें और इस काम को करने के लिए दृढ़ रहना चाहिए।

  • आचार्य चाणक्य जी के अनुसार शिक्षा सबसे अच्छा मित्र होता है एक शिक्षित व्यक्ति हर जगह सम्मान प्राप्त करता है शिक्षा सौंदर्य और यौवन को परास्त कर सकती है।
  • आचार्य चाणक्य जी के अनुसार जैसे ही भय आपके करीब आए उस पर आक्रमण करके उसे नष्ट कर दीजिए।
  • आचार्य चाणक्य जी के अनुसार किसी मूर्ख व्यक्ति के लिए किताबें उतनी ही उपयोगी है जितना कि एक अंधे व्यक्ति के लिए आईना होता है।
  • आचार्य चाणक्य जी के अनुसार जिस प्रकार एक सूखे पेड़ को अगर आग लगा दी जाए तो वह पूरे जंगल को जलाकर नष्ट कर देता है ठीक उसी प्रकार एक पापी पुत्र पूरे परिवार को बर्बाद कर सकता है।
  • जीवन में सबसे बड़ा गुरु मंत्र यह है कि कभी भी अपने राज दूसरों को ना बताएं यदि ऐसा किया जाए तो यह आपको बर्बाद कर देगा।
  • आचार्य चाणक्य जी के अनुसार पहले 5 सालों में अपने बच्चे को बड़े प्यार से रखें, अगले 5 साल उन्हें डांट फटकार कर रखें जब वह 16 साल का हो जाए तो उसके साथ एक मित्र की तरह व्यवहार करें आपके व्यस्क बच्चे ही आपके सबसे अच्छे दोस्त हैं।
  • आचार्य चाणक्य जी के अनुसार फूलों की सुगंध केवल वायु की दिशा में फैलती है परंतु एक व्यक्ति की अच्छाई हर दिशा में फैलती है।
  • आचार्य चाणक्य जी के अनुसार दुनिया की सबसे बड़ी शक्ति नौजवानी और औरत की सुंदरता होती है।
  • आचार्य चाणक्य जी के अनुसार हमें भूत के बारे में पछतावा नहीं करना चाहिए ना ही भविष्य के बारे में चिंता करनी चाहिए जो व्यक्ति विवेकवान होते हैं वह हमेशा वर्तमान में ही जीवन व्यतीत करते हैं।
  • आचार्य चाणक्य जी का कहना है कि हर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ अवश्य होता है ऐसी कोई भी मित्रता नहीं है जिसमें स्वार्थ ना हो यह सबसे कड़वा सच है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!