लालू की पेरौल पर बढ़ा विवाद, आरजेडी ने बीजेपी पर लगाएं आरोप

चारा घोटालें के दोषी लालू यादव को भले ही उनके बेटे की शादी में शामिल होने के लिए पेरौल मिल गई हो, लेकिन इस पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। लालू यादव ने पेरौल के लिए 5 दिन का वक्त मांगा था, लेकिन उन्हें ये वक्त सिर्फ 3 दिन के लिए दिया, जिसके बाद से ही इस पर विवाद शुरू हो चुका है। लालू प्रसाद की बेटी और आरजेडी नेताओं ने भी लालू के पेरौल को लेकर सवाल खड़े किये। बता दें कि लालू को पेरौल शर्त के साथ मिली हैं, जिसको लेकर आरजेडी बीजेपी पर हमलावर हो रही है। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?

लालू यादव के पेरौल को लेकर लालू की बेटी का कहना है कि लालू कोई बड़े अपराधी तो है नहीं जो उनके साथ इस तरह का बर्ताव किया जा रहा है। बेटी मीसा भारती ने कहा कि पैरोल में इतनी शर्तें रखी गई है,  जैसे लालू यादव कोई बहुत बड़े अपराधी हों। इसके साथ ही मीसा ने आगे भी कहा कि पैरोल लेना सबका अधिकार होता है, इसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए, पर लालू के साथ  राजनीति हो रही है, उनकी पेरौल को कम कर दिया गया, साथ ही अब उनके साथ ऐसा बर्ताव।

मीसा भारती ही नहीं आरजेडी नेता भी लालू की पेरौल को लेकर सवाल उठाये। जी हां, आरजेडी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने सवाल खड़े करते हुए कहा कि लालू को पेरौल पर हाथ पैर बांधकर छोड़ा गया। साथ ही उन्हें कई पुलिस अफसरों की फोर्स लेकर आई, घर में भी उन पर निगरानी रखी जा रही है। इतना ही नहीं लालू को शर्तों पे रखा गया है, जैसे वो शादी के अलावा कहीं नहीं जा सकते हैं, किसी से भी मुलाकात नहीं कर सकते हैं, जबकि उनके समर्थकों का तांता लगा हुआ दिखाई दिया।

बताते चलें कि इन सब आरोपों  को खारिज करते हुए सुशील मोदी ने कहा कि आरजेडी नेता फालतू में हर चीज को राजनीति से जोड़कर देख रहे हैं। साथ ही सुशील ने कहा कि लालू एक मुजरिम हैं, और उनके साथ मुजरिमों जैसा ही व्यवहार किया जा रहा है, फिर भी आरजेडी न्यायपालिका के हर फैसले पर सवाल उठा रही है, जोकि गलत है। लालू के बड़े बेटे तेज की शादी 12 मई को होगी, ये शादी शाही होगी। तेज प्रताप का रिश्ता बिहार के ही एक राजनीतिक परिवार में तय किया गया है, जिसकी वजह से भविष्य में बिहार की राजनीति में तेज की होने वाली वाइफ भी अपना कदम रख सकती हैं।

Shreya Pandey

Web Journalist