कर्नाटक चुनाव जीतने के लिए फिर हिंदुत्व राह पर चली बीजेपी

कर्नाटक चुनाव को लेकर धर्म, जाति हर दांव पर फोकस किया जा रहा है। जी हां, बीजेपी सूबे के हर समीकरण पर फोकस कर रही  है। यही वजह है कि इस बार फिर से  हिंदुत्व की छवि को लेकर बीजेपी सजग हो गई है, जिसके लिए बीजेपी ने पूरा मास्टरप्लान तैयार कर लिया  है। कर्नाटक के हिंदुओं को अपने खेमे में करने के लिए बीजेपी ने कांग्रेस पर न सिर्फ गंभीर गंभीर आरोप लगाये बल्कि पूरी तरह से तैयारियां भी कर लिया है। इसकी झलक अमित शाह से ही देखी जा सकती है। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?

बीजेपी ने कर्नाटक में हिंदुत्व की छवि पर जोर देने का आदेश दिया है। इसके लिए बीजेपी के फायरब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ और बड़े बड़े नेताओं को कर्नाटक में प्रचार करने का आदेश दिया गया है। साथ ही इन नेताओं को अपने चुनावी भाषण में सिर्फ और सिर्फ हिंदुओ पर फोकस करने को कहा है। इतना ही नहीं, कांग्रेस पर निशाना साधते हुए बीजेपी ने कहा कि कांग्रेस हिंदु विरोधी है, वो सिर्फ मुस्लिम की सहयोगी है, ऐसे में हिदूं सिर्फ और सिर्फ बीजेपी को ही वोट करें।

बताते चलें कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी हिंदुत्व की राह पर चलते हुए मंदिर मठ जाते दिखाई दे रहे हैं। बता दें कि यहां का लिंगायत समुदाय बीजेपी से खफा है। यही वजह है कि इस समुदाय को अपने खेमे में करने के लिए बीजेपी 2014 के बाद एक बार फिर से हिंदुत्व की राह पर चल चुकी है। सभी स्टार प्रचारक को यह आदेश दिया गया है कि वो अपने भाषण में हिंदुत्व का खास ख्याल रखे। कर्नाटक में हिंदुओ की संख्या ज्यादा है, जिसकी वजह से कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही हिंदुओ को लुभावने में लगी हुई है।

कर्नाटक से इस बार कांग्रेस को हटाने के लिए बीजेपी ने विकास और सांप्रदायिक का कार्ड एक साथ खेला है, जिसकी वजह से बीजेपी का कद बढ़ता ही जा रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष भी हिंदुत्व की छवि पर जोर दे रहे हैं। यही वजह है कि  वो कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाएंगे, जिसके लिए उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से 15 दिन की छुट्टी मांगी है, ऐसे में देखना यह दिलचस्प होगा कि दोनों ही पार्टियों ने एक ही मास्टरकार्ड खेला है, तो ऐसे में किसका मास्टरकार्ड जनता को भाता है, ये तो खैर वक्त ही बताएगा, लेकिन कर्नाटक जीतना दोनों ही पार्टियों के लिए आसान नहीं है, ऐसे में मामला अब कांटे का हो चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.