आंबेडकर की मूर्ति को तोड़े जाने पर प्रदेश में जारी हुआ एलर्ट, जानिये क्या है मामला

उत्तर प्रदेश में अंबेडकर की मूर्तियों के तोड़ने का मामला दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है। ऐसे में अब प्रदेश सरकार ने इसको लेकर भारी एलर्ट जारी किया है। बताते चलें कि अंबेडकर की मूर्तियों को लेकर सूबे में जमकर सियासत भी हो रही है। बता दें कि प्रदेश सरकार इस मामले को अब गंभीरता से लेती हुई नजर आ रही है, ऐसे में अब प्रदेश में एक एलर्ट जारी किया है, जिसके तहत मूर्तियां तोड़ने पर कार्रवाई की जाएगी। तो चलिए जानते हैं कि आखिर सूबे में कौन सा एलर्ट जारी हुआ है?

त्रिपुरा चुनाव के नतीजों के बाद से ही देशभर में महापुरूषों के मूर्तियों को तोड़ने की खबरें ज्यादा फैल रही है, ऐसे में अब यूपी सरकार इसको लेकर गंभीर दिखाई दे रही है। याद दिला दें कि कुछ दिन पहले यूपी में अंबेडकर की मूर्तियां भारी संख्या में तोड़ी गई थी, जिसकी वजह से सरकार ने अब कड़े कदम उठाएं है। जी हां, सरकार ने एलर्ट जारी किया है कि अगर प्रदेश में मूर्तियां तोड़ी गई तो ऐसे में इसकी जिम्मेदारी पुलिस कप्तान की होगी।

बताते चलें कि मामले में गृह विभाग प्रदेश भर में अलर्ट जारी किया है, ऐसे में प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार द्वारा जारी निर्देशों में प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ने सभी जिलों के एसएसपी, एसपी को पत्र लिखा है, जिसमें महापुरुषों की प्रतिमाओं की सुरक्षा पुलिस करे। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि प्रतिमाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस कप्तान की है, ऐसे में अब अगर मूर्तियां तोड़ी गई तो सबसे पहले जवाबदेही पुलिस कप्तान की होगी। साथ ही आपको यह भी बता दें कि 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान बुलंदशहर में साहेब डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर की प्रतिमा तोड़ी गई दी थी।

 

याद दिला दें कि यूपी में पिछले कुछ दिनों में एक के बाद एक नौ आंबेडकर की मूर्तियों को तोड़ने का मामला सामने आया है, पर अभी इन मामलों में पुलिस ने सिर्फ रिपोर्ट ही दर्ज की है, इसके अलावा किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है, जिसकी वजह से सरकार इसको लेकर सख्त हो गई है। बताते चलें कि एलर्ट के मुताबिक मूर्ति तोड़ने वालों को तुरंत गिरफ्तार करके उस पर केस चलाया जाएगा। सरकार का  कहना है कि यह एलर्ट इसलिए जारी किया गया है ताकि प्रदेश में महापुरूषों की मूर्तियों के साथ फिर से कोई खिलवाड़ न कर सके। इसके अलावा सरकार का यह भी कहना है कि इस मामले में अब कड़ी कार्रवाई होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.