पीएम मोदी ने स्मृति को दिया बड़ा झटका, फेक न्यूज़ पर पलटा फैसला

फर्जीवाड़े से बचने के लिए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने पत्रकारों पर कार्रवाई करने के लिए एक बड़ा फैसला लिया था, जिसको लेकर अब पीएम मोदी ने स्मृति को बड़ा झटका दे दिया है। जी हां, मंगलवार की सुबह से आई खबर फेक न्यूज ने दोपहर तक करवट बदल ली। लगता है कि इस बार केंद्र सरकार कोई बड़ा हंगामा नहीं चाहती है, क्योंकि अभी दलितों का मुद्दा शांत नहीं हुआ है, ऐसे में पत्रकारों के खिलाफ मोर्चा खोलना पीएम मोदी को सही नहीं लगा होगा। आइये जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की थी, जिसमें लिखा गया था कि फेक न्यूज फैलाने वाले पत्रकारों की मान्यता रद्द की जाएगी, जिसको लेकर पत्रकार समुदाय में विरोध की आंच जलने लगी है, ऐसे में पीएम मोदी ने माहौल को देखते हुए मंत्रालय का फैसला ही पलट डाला। जी हां, पीएम मोदी ने इस फैसले को लेकर एक बड़ा आदेश दिया है। मोदी ने कहा कि इस तरह का कोई भी फैसला नहीं लिया जाएगा।

स्मृति ईरानी ने एक ट्वीट करते हुए कहा था कि अब फर्जी खबर फैलाने वाले पत्रकारों की मान्यता रद्द कर दी जाएगी, इसके लिए  उन्होंने प्रेस विज्ञप्ति जारी  की थी। प्रेस विज्ञप्ति था कि अगर कोई पत्रकार पहली बार इसमें दोषी पाया जाएगा, तो उसकी मान्यता 6 महीने के  लिए रद्द की जाएगी और इसके बाद भी अगर वो ऐसा करता हुआ पाया गया तो हमेशा के लिए उसकी मान्यता रद्द कर दी जाएगी। स्मृति के इस फैसले से ही पत्रकार समुदाय में बड़ी नाराजगी दिखने लगी थी। सोशल मीडिया पर इसको लेकर मुहिम भी चालू हो गई थी, जिसके बाद पीएम मोदी ने यह फैसला ही पलट दिया।

जी हां, पीएम मोदी ने कहा कि इस तरह का कोई फैसला नहीं लिया जाएगा। संबंधित मंत्रालय इस फैसले को फौरन ही वापस लें। गौरतलब है कि इसे स्मृति के लिए बड़ा झटका बताया जा रहा है, क्योंकि स्मृति इस फैसले को लेकर काफी खुश दिखाई दे रही थी, ऐसे में उनके फैसले पर पीएम मोदी ने एक बार फिर से पानी फेर दिया है।

मान्यता रद्द होने की खबर से ही सियासी गलियारों में हलचले तेज हो गई थी, जिसके बाद अब चुनावी मौसम को ध्यान में रखते हुए पीएम मोदी देश में किसी भी तरह का हंगामा नहीं चाहते है, शायद इसीलिए उन्होंने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के फैसले को पलटने का आदे दिया, जिसे पत्रकार बड़ी जीत बता रहे हैं।

Shreya Pandey

Web Journalist