यहाँ की महिलाएं गिलास में नहीं बल्कि इस गन्दी चीज में पीती हैं पानी, वजह जानकर उड़ जायेंगे आपके होश

पति के जूते में डालकर पीती हैं पानी: आज भले ही हम कई मामलों में आगे निकल गए हैं, लेकिन कुछ ऐसी चीजें हैं, जिस मामले में आज भी हम अन्य दुनिया से काफी पीछे हैं। आज भी भारत में कई जगहों पर महिलाओं को पुरुषों से कम समझा जाता है। आज भी महिलाओं को पुरुषों के पैर की जूती समझा जाता है। कई जगहों पर पुरुष इस बात को समय-समय पर जता भी देते हैं, कि महिलाएं उनके पैर की जूती ही हैं। महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए सरकार कई योजनायें चला रही है, लेकिन कुछ जगहों की महिलाओं को इसका कोई लाभ नहीं मिलता है।

सदियों से महिलाओं के साथ होता आया है भेदभाव:

आज भी भारत में कई ऐसी जगहें हैं, जहाँ महिलाओं को घर से बाहर निकलने की भ आज़ादी नहीं है। कुछ जगहों की महिलाओं ने पुरुषों को भी पीछे छोड़ दिया है, लेकिन महिलाओं को कम ही समझा जाता है। सदियों से महिलाओं के साथ भेदभाव होता आया है और आज भी वही हो रहा है। आज भी कई जगहों पर पुरानी दकियानूसी परम्पराओं को माना जा रहा है। सरकार ने महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ अभियान की भी शुरुआत की है। इसका फायदा कई जगहों पर देखने को मिल रहा है।

अन्धविश्वास के नाम पर किया जाता है महिलाओं को प्रताड़ित:

भारत में धर्म के नाम पर अन्धविश्वास पर भी यकीन करने वाले लोगों की कमी नहीं है। अन्धविश्वास के चक्कर में कई बार महिलाओं को प्रताड़ित करने की घटनाएँ सामने आ चुकी हैं। कहीं पर अन्धविश्वास के चक्कर में महिलाओं को खम्बे से बाँधकर पीटा जाता है तो कहीं पर उन्हें जिन्दा जला दिया जाता है। भारत में आज भी महिलाओं की क्या स्थिति है, इसके बारे में अच्छे से जानने के लिए आज हम आपको एक ऐसी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं, जहाँ महिलाओं की स्थिति अत्यंत ही दयनीय है। यकीनन यहाँ के महिलाओं की स्थिति के बारे में जानकर आपका खून खौल उठेगा।

महिलाएं पति के जूते में डालकर पीती हैं पानी:

राजस्थान के भीलवाड़ा जिले में आज भी अंधविश्वास का बोलबाला है। यहाँ के कई इलाकों के लोग आज भी अंधविश्वास में यकीन करते हैं और उसी के अनुसार अपना जीवन भी जीते हैं। यहाँ अंधविश्वास की वजह से ही महिलाएं गिलास में नहीं बल्कि जूते में पानी पीती हैं। जी हाँ आप बिलकुल सही सुन रहे हैं, महिलाएं जूते से पानी पीती हैं। जब भी यहाँ की महिलाओं को प्यास लगती है, वह अपने पति के जूते में पानी डालकर पीती है। ऐसा महिलाएं अंधविश्वास की वजह से करती हैं। आपको बता दें भीलवाड़ा में बंकाया माता का एक मंदिर है।

भूत भगाने के नाम पर की जाती है महिलाओं के साथ क्रूरता:

यहाँ के लोगों का ऐसा मानना है कि यहाँ आने से भूत-प्रेत से मुक्ति मिल जाती है। इस मंदिर पर लोगों की अटूट आस्था है। भूत भगाने का काम यहाँ के पुजारी करते हैं। भूत भगाने के लिए यहाँ के पुजारी महिलाओं के ऊपर क्रूरता करते हैं। भूत भगाने के नाम पर यहाँ महिलाओं के सर पर पति का जूता रखकर कई किलोमीटर पैदल चलने के लिए मजबूर किया जाता है। इसके साथ ही महिलाएं मुंह में भी जूते दबाकर गाँव की गलियों से गुजरती हैं। इसके लिए कोई महिला इनकार नहीं कर सकती है। इसकी वजह से कई बार महिलाओं को हंसी का पात्र भी बनना पड़ता है। आज के युग में भी महिलाओं के साथ ऐसा हो रहा, यह काफी सोचनीय है।