विशेष

देश की सभी बड़ी हस्तियों के घर जाता है इस डेयरी से दूध, एक लीटर दूध की कीमत है…

डेयरी दूध: दूध किसी व्यक्ति के शारीरिक विकास के लिए कितना जरुरी होता है, यह किसी को बताने की जरुरत नहीं है। एक गरीब व्यक्ति हो या कोई अरबपति सबको दूध की जरुरत पड़ती ही है। हालाँकि अरबपति लोग साधारण दूध नहीं पीते हैं। महाराष्ट्र के पुणे में भाग्यलक्ष्मी नाम की एक डेयरी चलती है। इस डेयरी के कस्टमरों की लिस्ट काफी लम्बी है। आपको जानकर काफी हैरानी होगी कि बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन से लेकर बिज़नेस के बादशाह अंबानी परिवार के लिए यहीं से दूध जाता है।

एक लीटर दूध की कीमत है 90 रूपये लीटर:

केवल यही नहीं बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ऋतिक रोशन के साथ ही क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर भी इसी डेयरी से दूध मंगवाते हैं। आप सोच रहे होंगे कि ये लोग इस डेयरी से दूध मंगवाते हैं तो दूध बहुत महंगा होता होगा? जबकि ऐसा कुछ नहीं है। हालाँकि इस डेयरी का दूध आम दूध के मामले थोड़ा महंगा तो है, लेकिन बहुत ज्यादा महंगा नहीं है। जी हाँ इस डेयरी के एक लीटर दूध की कीमत केवल 90 रूपये लीटर है। आपको बता दें इस डेयरी के मालिक का नाम देवेन्द्र शाह है और वह खुद को देश का सबसे बड़ा ग्वाला बताते हैं।

एक गाय की कीमत है लगभग 2 लाख रूपये:

शाह ने अपने बारे में बताया कि पहले वह कपड़े के बिज़नेस में थे, लेकिन बाद में उन्होंने डेयरी का धंधा शुरू कर दिया। शाह ने 175 ग्राहकों के साथ प्राइड ऑफ़ काऊ नाम के प्रोडक्ट की शुरुआत की थी। आज मुंबई और पुणे में भाग्यलक्ष्मी के 25 हजार से ज्यादा ग्राहक हैं। इसमें से कई देश की बड़ी-बड़ी हस्तियाँ भी हैं। शाह के फार्म में लगभग 4000 डच होल्स्टीन गायें हैं। एक गाय की कीमत लगभग 1.75 लाख से 2 लाख के बीच में है। भारत में उच्च नश्ल के गायों की कीमत 80 से 90 हजार होती है।

गायों को पिलाया जाता है RO का पानी:

शाह का डेयरी फार्म 26 एकड़ में बना हुआ है और उसपर लगभग 150 करोड़ का खर्च हुआ है। इस फार्म से हर रोज लगभग 25 हजार लीटर दूध का प्रोडक्शन होता है। यहाँ गायों को उच्च सुविधा के बीच में रखा जाता है। गायों के लिए जो रबर मैट बिछाया गया है, उसकी दिन में तीन बार सफाई भी की जाती है। यहाँ की गायें RO का पानी पीती हैं। गायों को खाने में सोयाबीन, अल्फ़ा घास, मौसमी सब्जियां और मक्की का चारा दिया जाता है। गायों का पेट साफ़ रहे इसके लिए उन्हें हिमालया की दवाइयाँ भी दी जाती हैं।

एक बार दूध निकालने के बाद किया जाता है गायों का वजन:

यहाँ गायों का दूध निकालने से लेकर उसकी पैकेजिंग तक का सारा काम ऑटोमैटिक रूप से होता है। एक बार दूध निकालने के बाद हर बार गाय का तापमान और उनका वजन किया जाता है। गाय अगर बीमार पड़ती है तो उन्हें तुरंत यहाँ से हॉस्पिटल भेजा जाता है। एक बार में 50 गायों का दूध निकाला जाता है। इस प्रक्रिया में कुल 7 मिनट का समय लगता है। कंपनी की मार्केटिंग हेड और शाह की बेटी अक्षाली बताती हैं कि हर रोज दूध फ्रीजिंग डिलीवरी वैन में भरकर मुंबई पहुँचाया जाता है। डिलीवरी मैन 5:30 से 7:30 के बीच दूध ग्राहकों तक पहुंचा देता है।

Related Articles

Close