अखिलेश यादव का बड़ा बयान, ‘बीजेपी को कहीं भी हरा सकते हैं’

उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने रविवार को बड़ा बयान दिया है। जी हां, अखिलेश यादव ने कहा कि वो बीजेपी को कहीं भी हरा सकते हैं, इसके लिए उन्होंने रणनीति भी बना लिया है। बता दें कि अखिलेश यादव यूपी उपचुनाव में जीत से काफी गदगद दिखाई दे रहे हैं, ऐसे में अब अखिलेश यादव ने बड़ा बयान दिया है। तो चलिए जानते हैं कि अखिलेश यादव ने क्या कुछ कहा है?

उपचुनाव में बीजेपी को करारी शिकस्त देने के बाद पूर्व सीएम अखिलेश यादव खुश होने का एक भी मौका नहीं छोड़ रहे हैं। बता  दें कि यूपी की दो लोकसभा सीट को अखिलेश बड़ी जीत बताई है। अखिलेश का कहना है कि ये जीत उनके लिए इसलिए बड़ी है, क्योंकि इसमें से एक सीट सीएम की थी तो दूसरी सीट डिप्टी सीएम की थी, तो इस मायने से अखिलेश इसे बड़ी जीत बताते हैं। इतना ही नहीं, अखिलेश यह भी कहते हैं कि बीजेपी को कहीं भी हराया जा सकता है, क्योंकि बीजेपी अजेय नहीं है, और लोकतंत्र में हार जीत तो लगा ही रहता है।

राज्यसभा चुनाव के बाद अखिलेश ने कहा कि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी का गठबंधन और मजबूत हुआ है, क्योंकि एक बार फिर से बीजेपी का चरित्र उजागर हो गया है। गौरतलब है कि अखिलेश और मायावती बीजेपी पर आरोप लगाते हुए आ रहे हैं कि बीजेपी ने धन औऱ धोखे से उनके विधायकों को अपनी तरफ किया, जोकि बीजेपी की एक ओछी राजनीति का ही नमूना है।

आगामी चुनावों की रणनीति पूछे जाने पर अखिलेश ने कहा कि हम जमीनी स्तर पर काम करते हैं औऱ आगे भी करेंगे, ऐसे में आने वाले चुनावों में हमारे कार्यकर्ता और मैं खुद लोगों के बीच जाऊंगा और अपने कार्यकाल में किये गये कामों को जनता को याद दिलाउंगा, ऐसे में जनता हमारी बात जरूर सुनेगी, क्योंकि बीजेपी से उसे कुछ बातों और दिलासा के सिवाय कुछ नहीं मिला है। ऐसे में अखिलेश ने कहा कि सीधे जनता से संपर्क करेंगे तो बीजेपी को कहीं भी हरा सकते हैं, इसके लिए हमारा बूथ औऱ यूथ दोनों ही काम कर रहा है।

परिवारवाद पर बीजेपी पर पलटवार करते हुए अखिलेश ने कहा कि ‘राजनाथ सिंह, कल्‍याण सिंह, रमन सिंह, शिवराज सिंह चौहान जैसे बीजेपी नेता परिवारवाद चला रहे हैं, ऐसे में उनके परिवार के लोग राजनीति में हैं। अखिलेश ने आगे कहा कि मेरी पत्‍नी चुनाव नहीं लड़ेंगी, लेकिन अगर बीजेपी वाले भी परिवारवाद नहीं बंद करेंगे तो मैं भी अपना मन बदल सकता हूं।

Shreya Pandey

Web Journalist