दूधमुंहे बच्चे को लेकर होटल जाती थी महिला और करती थी ये गन्दा काम, छापेमारी के बाद खुली पोल

दूधमुंहे बच्चे को लेकर होटल जाती थी महिला: हाल ही में बिहार के हाजीपुर में एक बहुत बड़े सेक्स रैकेट का पर्दाफाश हुआ है। एसपी की विशेष छापेमारी टीम ने जब एसके होटल और उससे सटे हुए ड्रीम होटल में छापा मारा तो 10 जोड़े आपत्तिजनक हालत में मिले। दोनों होटलों से कुल 11 महिलाओं और 15 पुरुषों को गिरफ्तार किया गया है। आपको जानकारी हैरानी होगी कि गिरफ्तार महिलाओं में से एक महिला ऐसी भी थी, जिसके गोद में दूधमुंहा बच्चा भी था। पुलिस ने इस मामले में होटल में डायरेक्टर, मैनेजर समेत कुल 3 लोगों को हिरासत में लिया है।

पुलिस ने होटल में ग्राहक बनकर की बातचीत:

पुलिस ने इन होटलों से शराब की कई बोतलें और ताश की गड्डी भी बरामद की है। आपकी जानकारी के लिए बता दें हाजीपुर शहर के स्टेशन से सटे हुए ही ये दोनों होटल हैं। जानकारी के अनुसार इन दोनों होटलों में काफी समय से यह घिनौना काम चल रहा है। पुलिस ने सुबह 10 बजे से ही दोनों होटलों की रेकी शुरू कर दी थी। इसी सिलसिले में पुलिस ने ग्राहक बनकर होटल में बातचीत भी की थी। वो होटल के रिसेप्शन पर रुके थे। पूछने पर होटल के डायरेक्टरों ने बताया कि उनके बाकी दोस्त भी आ रहे हैं।

नगर पुलिस को नहीं थी इसकी जानकारी और हो गया इतना बड़ा खुलासा:

काफी समय तक रुककर पुलिस ने जानकारी हासिल की और जब उन्हें पूरा यकीन हो गया कि इन होटलों में जिश्मफरोसी का धंधा चलता है तो उन्होंने इसकी सूचना स्पेशल पुलिस टीम को दी गयी। पुलिस ने अनुसार इस मामले में कई बिन्दुओं पर गहनता से जांच की जा रही है। बताया जा रहा है कि इन होटलों में यह धंधा काफी समय से फल-फूल रहा है। इसमें सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि इसकी जानकारी नगर थाने को बिलकुल भी नहीं है और एसपी की टीम ने यहाँ इतना बड़ा खुलासा कर दिया।

नगर पुलिस को नहीं मिलता था कुछ भी आपत्तिजनक:

कार्यवाई के काफी समय बाद थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस की कार्यवाई के दौरान होटल के बाहर लोगों की भीड़ इकठ्ठा हो गयी थी। आपको बता दें स्टेशन रोड के पास चल रहे जिश्मफरोसी के धंधे की खबर लगातार पुलिस को मिल रही थी। पुलिस बार-बार चेक करती थी, लेकिन उसके हाथ कुछ भी नहीं लगा। इसके बाद एसपी के एक स्पेशल टीम गठित की। इसमें कुछ चुनिन्दा पुलिस कर्मियों के साथ आईटी सेल के लोगों को शामिल किया गया। इस पूरी कार्यवाई से नगर के थाने को बिलकुल अलग रखा गया। नगर थाने की पुलिस जब भी उन होटलों में जांच के लिए जाती थी, उन्हें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं मिलता था।

नगर पुलिस के मिले होने की भी आशंका:

जब एसपी की गठित टीम ने उन होटलों में छापेमारी की तो पूरी सच्चाई सामने आ गयी। इसके बाद से नगर पुलिस के ऊपर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। कुछ लोगों का कहना है कि नगर पुलिस में होटल मालिकों के इस गंदे खेल में शामिल थी। होटल के सभी कमरे लगभग हर रोज बुक रहते थे। हर कमरे में पुरुष के साथ एक महिला जरुर होती थी। इनको रिश्तेदार के रूप में होटल के रजिस्टर में दर्ज किया जाता था। एसपी ने इस मामले में बताया कि हर रोज पुलिस को होटल में चलने वाले गंदे काम की जानकारी मिलती थी। इसी वजह से एक स्पेशल टीम गठित की गयी और छापेमारी की गयी।