विशेष

भारत में इस जगह पर रखी है 2340 साल पुरानी महिला की ममी, देखकर लगेगा अभी उठ खड़ी होगी

जयपुर: अक्सर आपने हॉलीवुड की फिल्मों में ममी के बारे में देखा होगा। ममी उस लाश को कहते हैं जिसे खास लेप के जरिये इस तरह से रखा जाता है, जो हजारों सालों तक वैसी ही रहती है। हाल ही में 2340 साल पुरानी महिला की ममी देखा गया जो जयपुर के अल्बर्ट म्यूजियम में रखी हुई है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इतने सालों के बाद भी एक खास लेप की वजह से यह ममी आज भी वैसी ही दिखती है जैसे वह शुरुआत में दिखती थी।

जयपुर की ममी है बहुत अच्छी हालत में:

यहाँ हलकी रोशनी और खास सुरक्षा उपकरणों के बीच रखी हुई इस मिश्र की ममी को देखने के लिए हर रोज सैकड़ों सैलानी आते हैं। आपको बता दें यह भारत का पहला ऐसा म्यूजियम है जो रात में भी खुलता है। दिल्ली नेशनल म्यूजियम की पहल पर मिश्र की ममी विशेषज्ञ रानिय अहमद और नेशनल म्यूजियम से आये रसायन शाखा के अमल कांत पाठक ने लगभग ढाई घंटे तक जांच के बाद यह जानकारी दी। विभाग के ही सुबोध अग्रवाल की टीम ने बताया कि ममी की हालत अच्छी है और इसके रख-रखाव की भी तारीफ की गयी।

म्यूजियम के ठीक बीच में रखी गयी है यह ममी:

आपको बता दें इससे पहले मार्च 2011 में राज्य सरकार के विशेष बुलावे पर मिश्र से तीन लोगों की टीम आई थी और इस ममी की जाँच की और एक्स-रे भी लिया था। आपको बता दें इस ममी की समय-समय पर देखभाल की जाती है। ममी के देखभाल का जिम्मा राज्य पुरातत्व विभाग के केमिकल डिविजन के ऊपर है। यह काम मिश्र के काहिरा म्यूजियम के एक्सपर्ट्स के अनुसार किया जाता है। आपको बता दें अल्बर्ट म्यूजियम में इस ममी को खास मसाला लगाकर रखा गया है। अलबर्ट म्यूजियम के बीचो-बीच में यह निर्जीव ममी रखी गयी है।

लखनऊ की ममी है सबसे बुरी हालत में:

ममी को देखकर ऐसा लगता है कि यह तुरंत उठकर खड़ी हो जाएगी। यहाँ हर रोज सैकड़ों सैलानी आते हैं। पुरानी चीजों को देखने का जिन लोगों को भी शौक है वो यहाँ जा सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें देश के 6 शहरों कोलकाता, लखनऊ, मुंबई, हैदराबाद, जयपुर और बडौदा म्यूजियम में ममी रखी गयी है। मिश्र से जो एक्सपर्ट्स आते थे उन्होंने सभी शहरों का विजिट किया था। इसमें से लखनऊ म्यूजियम में रखी हुई ममी सबसे बुरी हालत में मिली है, जबकि जयपुर की ममी सबसे अच्छी हालत में मिली। अब दिल्ली में इन ममी के संरक्षण को लेकर प्लानिंग की जाएगी।

1887 में लाया गया था इस ममी को:

जानकारी के अनुसार मिश्र की इस ममी को 1887 में लाया गया था। अल्बर्ट म्यूजियम में इसे 1980 में रखा गया था। यह ममी एक तूतू नाम की महिला की है, जिसे संरक्षित रखा गया है। यह महिला मिश्र के प्राचीन नगर राज्य (पैनोपोलिस) में अखमीन से मिली है। बताया जा रहा है कि यह महिला खेम नाम के देवता के उपासक पुरोहितों के परिवार की सदस्य थी। मिश्र में ऐसा माना जाता है कि इस तरह से शरीर रखने से उसमें फिर से आत्मा प्रवेश कर सकती है। इसके लिए शरीर के सारे ऑर्गन को निकालकर प्रिजर्व किया जाता थाशरीर को डिहाइड्रेट करके पट्टियां बांधकर बिटुमिन की लेयर लगायी जाती थी। ये विशेष प्रकार के लेप होते थे।

Related Articles

Close