अगर आप भी पेट के बल सोते हैं तो आज ही छोड़ दे ये आदत, वर्ना पड़ेगा पछताना

दिन भर की थकान के बाद जब हम बिस्तर पर पड़ते हैं तो ये ख्याल नहीं रहता कि किस पोजीशन में सो रहे हैं बस नींद में निढ़ाल हो जाते हैं । ऐसे में कई बार हम पेट के बल भी सो जाते हैं और कुछ लोगों की तो पेट के बल सोने की आदत ही होती है ।

अगर आप भी उनमें से एक हैं तो सावधान हो जाइए क्योंकि आपकी ये आदत आपके सेहत पर भारी पड़ सकती है .. इससे रीढ़ की हड्डी, पीठ, गर्दन में दर्द और पेट की समस्या के साथ स्किन सम्बंधी समस्याएं भी उत्पन्न होती है। आज हम आपको पेट के बल सोने के ऐसे ही कुछ नुकसान के बारे में बता रहे हैं।

सिर दर्द

जब कोई इंसान पेट के बल सोता है तो उससे गर्दन मुड़ जाती है और इस वजह से ब्लड की सप्लाई सिर के अदंर सही ढ़ंग से नहीं हो पाती है। ऐसे में सिर दर्द की समस्या उत्पन्न होती है।

गर्दन में दर्द

पेट के बल सोने से सिर और स्पाइन एक सीध में नहीं रहती जिसकी वजह से गर्दन में दिक्कत हो सकती है। जिसका नाम ‘हर्नियेटेड डिस्क’ हैं। इसमें स्पाइन शिफ्ट कर जाती है जिससे अन्दर वाले जिलेटिनस डिस्क में दिक्कत हो जाती है और व्यक्ति के पूरे नर्व में दर्द महसूस होने लगता है।

बैक पेन

दरअसल जब लोग पेट के बल सोते है तो उनकी रीड़ की हड्डी नेचुरल शेप में नहीं रह पाती है। जिससे लोगों को बैक पेन होने लगता है और कई बार तो ऐसे सोने से बैक पेन काफी ज्यादा भी हो सकता है।

स्पाइन पर खिंचाव

वहीं पेट के बल सोने से स्पाइन पर अधिक दबाव पड़ता है। चूंकि स्पाइन एक पाइपलाइन की तरह काम करता है ऐसे में इस पर दबाव पड़ने से शरीर के बाकी हिस्से सुन्न हो जाते हैं और इससे आपके पूरे शरीर में दर्द होने लगता है।

त्वचा के लिए नुकसानदायक

पेट के बल सोने सो चेहरा दबा रहता है। ऐसी स्थिति उसके चेहरे को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है। जिससे चेहरे पर झुर्रिया और पिंपल्स की समस्या होने लगते है .. इन समसयाओं से बचने के लिए पेट के बल सोने से बचना चाहिए।

अपच की समस्या

पेट के बल सोने से पेट पर दबाव पड़ता है जिससे खाया हुआ भोजन सही ढ़ंग से पच नहीं पाता और यही वजह है कि जो व्यक्ति पेट के बल सोता है तो उसे अपच की समस्या होने लगती है।

ये है सोने की सही पोजीशन बाएं करवट सोना

वहीं अगर सोने की सही पोजीशन की बात करें तो बाएं करवट सोना सबसे सही या बेस्ट पोजिसन माना गया है। ऐसे सोने से एसिडिटी और कब्ज की परेशानी नहीं होती है और साथ ही इससे इससे गर्दन और पीठ दर्द में भी काफी आराम मिलता है।

पीठ के बल सोना

पीठ के बल सोना भी काफी हद तक सही माना जाता है। इस पोजीशन में सिर, गर्दन और रीड़ की हड्डी अपने नेचुरल शेप में रहती है.. ऐसे में इस तरह सोने से सिरदर्द, गर्दन दर्द और बैक पेन जैसी समस्या काफी हद तक सही रहती है।

हाथ-पैर फैलाकर सोना

वहीं सोते वक्त हाथ पैर फेलाकर सोना भी काफी हद तक सही माना गया है। इस पोजीशन में बेड पर पीठ के बल लेट जाए और अपने दोनो पैरो को फैलाकर व हाथों को होल्ड करके अपने सिर के नीचे रखें। इस तरह सोने से स्ट्रेस व मसल्स पेन दूर होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.