आज रात से ब्रिक्स सम्मलेन का आगाज़: भारत और रूस के फैसले से बढ़ सकती है चीन और पाकिस्तान की मुश्किलें!

इस बार का ब्रिक्स सम्मलेन गोवा में आयोजित किया गया है, सम्मलेन की शुरुआत आज रात से होगी। सम्मलेन में भाग लेने के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और ब्राजील के राष्ट्रपति माइक टेमर गोवा पहुँच गए हैं। सबका स्वागत भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बड़े ही गर्मजोशी के साथ किया है। गोवा में ब्रिक्स सम्मलेन के शुरू होने से पहले भारत और रूस के बीच द्विपक्षीय वार्ता के बाद कुछ अहम समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए हैं। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस को ‘भारत का पुराना मित्र’ बताते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच ‘बहुर गहरा और ख़ास रिश्ता है।’
भारत-रूस के बीच हुए अहम समझौतेः

दोनों देशों के बीच ‘बहुत गहरा और ख़ास रिश्ता है

1: भारत और रूस के बीच सबसे अहम फैसला एस 400 ‘ट्राइअल्फ’ की खरीद को लेकर किया गया है। इस रक्षा प्रणाली की मदद से भारत 400 किलोमीटर के क्षेत्र में शत्रु के विमानों, मिसाइलों और ड्रोन को नष्ट करने में सक्षम हो जायेगा। इसकी मदद से तीन तरह की मिसाइल छोड़ी जा सकती है साथ ही साथ एक साथ 36 जगहों पर निशाना लगाया जा सकता है।

2: भारत और रूस के बीच चार एडमिरल ग्रिगोरोविच-क्लास (प्रोजेक्ट 11356) गाइडेड मिसाइल स्टील्थ फ्रिगेट को लेकर हभी किया गया है। इस सौदे के बाद दो युद्धपोत रूस से आयेंगे और रूस की मदद से दो युद्धपोतों का निर्माण भारत में ही किया जाएगा।

3: भारत ने रूस से 200 कामोव 226टी हेलीकॉप्टर के निर्माण को लेकर भी समझौता किया है जो चीता और चेतक हेलीकॉप्टर का स्थान लेंगी। भारत और रूस के बीच किया गया यह अब तक का सबसे अहं समझौता है।

4: भारत और रूस ने यातायात विकास और स्मार्ट शहरों के लिए भी समझौता किया।

5: गैस पाइपलाइन के अध्ययन की संभावनाओं के लिए भी भारत- रूस के बीच पर समझौता किया गया है।

6: भारत ने रूस से शिक्षा और प्रशिक्षण के क्षेत्र में मदद के लिए भी समझौता किया।

7: Ka-226T हेलिकॉप्टर्स के जॉइंट प्रोडक्शन के लिए भारत और रूस ने समझौते पर हस्ताक्षर किए।

8: एनर्जी, इंफ्रास्ट्रक्चर और रेलवे के विकास के लिए भारत और रूस ने समझौते पर हस्ताक्षर किया है।

भारत ने रूस के साथ किये कई अहम समझौते

9: विज्ञान और तकनीक आयोग के मामले पर भी भारत ने रूस के साथ कई अहम समझौते किये।

10: भारत ने रूस के साथ चार नौसेना फ्रिगेट और वायु रक्षा प्रणाली की खरीद के लिए भी समझौते पर हस्ताक्षर किये।

11) रूस, भारत की न्यूक्लियर एनर्जी के क्षेत्र में भी सहयोग करेगा।

12) भारत और रूस के बीच सलाना सैन्य औद्योगिक सम्मेलन किया जायेगा, इसके लिए भी दोनों देशों ने सहमती की।

भारत और रूस के बीच इतने अहम फैसले किये गए हैं, जिसे देखकर लगता है कि चीन और पाकिस्तान की नींद उड़ने वाली है। रूस और भारत का यह दोस्ताना व्यवहार देखकर दोनों देशों में खलबली मची हुई है।
आतंकवाद के मुद्दे पर भारत घेरेगा पाकिस्तान को:

सूत्रों का कहना है कि ब्रिक्स सम्मेलन में भारत आतंकवाद के मामले में पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए अपनी कूटनीतिक चाल चल सकता है। इस सम्मेलन में इस बात पर भी चर्चा हो सकती है कि कैसे आतंकवाद के खतरे का मुकाबला किया जाये और कारोबार एवं निवेश बढ़ाया जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.