पूर्वोत्तर में वाम मोर्चे को हराने में योगी का सबसे बड़ा हाथ, त्रिपुरा से ऐसा है योगी का रिश्ता

पूर्वोत्तर के तीन राज्यों के चुनावों के परिणाम आ गए हैं। ऐसे में सबसे ज्यादा दिलचस्प और खुशी की बात ये हैं कि त्रिपुरा बीते कई सालों से राज कर रही वाम पार्टी को बीजेपी ने धूल चटाई है। इस जीत का श्रेय हिन्दुत्व के सबसे बड़े चेहरे मोदी के बाद योगी को। क्योंकि चुनाव में वामपंथियों से मुकाबले के लिए बीजेपी जहां पूरी तरह पीएम मोदी के नाम का ही सहारा था। वहीं पीएम मोदी के अलावा योगी आदित्यनाथ भी राज्य में पार्टी के एक बड़े स्टार के रूप में उभरे। योगी की लोकप्रियता और राज्य के सियासी समीकरणों को देखते हुए बीजेपी ने पीएम मोदी की रैलियों के बाद योगी आदित्यनाथ को उतारा था जिसके बाद आज परिणाम बंपर जीत के साथ सबके सामने हैं।

योगी ने कैसे जिताया त्रिपुरा

दरअसल त्रिपुरा की 35 लाख आबादी में 13 लाख नाथ संप्रदाय के हिन्दु है। बीजेपी के एक नेता के मुताबिक त्रिपुरा में करीब 35 पर्सेंट बंगाली नाथ संप्रदाय से हैं। यह वही संप्रदाय है, जिसे यूपी सीएम योगी ने अपना लिया था। ऐसे में त्रिपुरा में योगी नाम खूब चला। इसलिए योगी के नाम को लेकर लोग काफी उत्साहित थे। नाथ संप्रदाय को जहां केंद्र में ओबीसी श्रेणी में रखा गया है, वहीं त्रिपुरा में यह सामान्य श्रेणी का ही हिस्सा है।

बीजेपी को पता था की योगी के त्रिपुरा आने से अच्छा असर पड़ेगा, साथ ही योगी की छवि हिंदू नेता की भी है। त्रिपुरा में रह रहे बंगाली दरअसल बांग्लादेश से आए हुए बंगाली हैं, जो अभी भी यह बातें करते हैं कि किस तरह बंग्लादेश में हिंदुओं पर अत्याचार किए गए थे।

पीएम को जीत की बधाईः योगी आदित्यनाथ

त्रिपुरा में मिली जीत के बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ये जीत पार्टी के लिए ऐतिहासिक सफलता है। केंद्र की नरेंद्र मोदी की सरकार के लिए पूर्वोत्तर की जनता का विकास अहम है। जबसे केंद्र में पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी की सरकार आई हैं। पीएम ने पूर्वोत्तर के विकास को प्राथमिकता दी है। असम के बाद त्रिपुरा और अब नगालैंड की जीत बड़ी बात है। प्रधानमंत्री और बीजेपी अध्यक्ष ने पार्टी को जीत की ओर बढ़ाया है। मैं प्रधानमंत्री और बीजेपी अध्यक्ष को जीत के लिए कोटि-कोटि बधाई देता हूं।

योगी ने किया था ताबड़तोड़ प्रचार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने त्रिपुरा में दो दिवसीय दौरा कर ताबड़तोड़ चुनावी रैलियां की थी। योगी ने अगरतला में चुनावी सभा को संबोधित किया था, और धर्म नगर स्थित गोरखनाथ मंदिर भी गए थे। योगी ने धर्मनगर से जुगराज नगर तक रोड शो किया था। कंचनपुर कमालपुर में चुनावी जनसभाओं को संबोधित किया था। इसके अलावा जुबराजनगर, कंचनपुर और कमलपुर में उनकी जनसभाएं हुईं थी। जहां सबसे ज्यादा नाथ संप्रदाय के लोग निवास करते हैं। योगी आदित्यनाथ मुजलिशपुर स्थित गोरखनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद मुजलिशपुर से खेयरपुर तक रथयात्रा के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। साथ ही खेयरपुर में जनसभा की थी। गौरतलब है कि त्रिपुरा में 60 सीटों पर विधानसभा का चुनाव 18 फरवरी को हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.