विशेष

होली के दिन भूलकर भी ये 4 काम किसी को नहीं करने चाहिए, करने वाले को जीवन भर नहीं मिलता चैन

होली के दिन न करे ये काम: गुरुवार यानी 1 मार्च को होलिका दहन किया जाएगा। होली के पर्व को हिंदू धर्म के सबसे ख़ास त्योहारों में से एक माना जाता है, इस त्योहार की धार्मिक मान्यता तो है ही साथ ही इस त्योहार को मानने के पीछे सामाजिक एकता और सौहार्द भी जुड़ा होता है। पूरे साल में होली ही एक ऐसा पर्व है जिस दिन सभी लोग अपनी दुश्मनी के बारे में भूलकर सभी को रंग लगाते हैं और एक दूसरे के गले मिलते हैं। इससे सामाजिक सौहार्द में वृद्धि होती है।

शास्त्रों में दिया गया है काफगी महत्व:

आज के समय में लोगों के बीच की दूरियाँ धीरे-धीरे बढ़ती जा रही हैं, ऐसे में यहीं एक त्योहार है जो लोगों को नज़दीक लाने का काम करता है। होली के पर्व का शास्त्रों में भी काफ़ी महत्व दिया गया है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार होली के दिन से ही नए साल की शुरुआत होती है, उसी ख़ुशी में लोग यह पर्व मनाते हैं॰। धार्मिक कथा के अनुसार हिरण्यकश्यप नाम के बाहुबली राक्षस का एक पुत्र था, जिसका नाम प्रह्लाद था, प्रह्लाद भगवान विष्णु का बहुत बड़ा भक्त था। उसकी भक्ति देखकर हिरण्यकश्यप को बुरा लगता था और उसने प्रह्लाद को रोकने की हर कोशिश की, लेकिन वह नाकाम हुआ।

शुभ कार्य से हो जाता है जीवन का दुर्भाग्य दूर:

अंत में उसने हार मानकर यह काम अपनी बहन होलिका को सौंपा। होलिका ने प्रह्लाद को अपनी गोद में लेकर जलाने की कोशिश की, लेकिन भगवान विष्णु के आशीर्वाद से प्रह्लाद को कुछ नहीं हुआ और होलिका जलकर भष्म हो गयी। शास्त्रों के अनुसार इस दिन किए गए शुभ कार्य से व्यक्ति का दुर्भाग्य दूर हो जाता है। केवल यहीं नहीं जो व्यक्ति इस दिन ग़लत काम करता है, उसके जीवन में परेशनियाँ बढ़ जाती हैं। इसलिए कहा जाता है कि होली के दिन अशुभ कार्यों को करने से बचना चाहिए।

करना पड़ता है जीवन भर परेशानियों का सामना:

आज हम आपको गीता प्रेस गोरखपुर द्वारा प्रकाशित संक्षिप्त गरुड़ पुराण के आचार कांड के अनुसार 4 ऐसे अशुभ कार्यों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो किसी भी स्त्री या पुरुष को नहीं करना चाहिए। जो लोग ये कार्य करते हैं, उन्हें जीवन भर परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

भूलकर भी होली के दिन न करे ये काम:

*- इस दिन ग़लती से भी ना सोएँ शाम के समय:

कुछ लोगों को छोड़कर होली के दिन जो लोग दिन या शाम के समय सोते हैं उन्हें जीवन में परेशानियों का सामना करना करना पड़ता है। इस दिन बीमार व्यक्ति, वृद्ध या किसी गर्भवती स्त्री को छोड़कर किसी को भी इस समय में नहीं सोना चाहिए।

*- भूलकर भी ना करें किसी से वाद-विवाद:

होली का पर्व प्रेम का पर्व होता है, इस दिन वाद-विवाद से बचना चाहिए। इस दिन कलह से बचना चाहिए। होली के दिन घर में शांति बनाकर रखना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि जो लोग क्रोध करते हैं, उनपर माता लक्ष्मी की कृपा नहीं होती है।

*- नशे से बचें:

आजकल होली के दिन ज़्यादातर लोग नशे में दूबे रहते हैं, जबकि शास्त्रों के अनुसार यह भूलकर भी नहीं करना चाहिए। जो लोग नशे का सेवन किसी भी समय करते हैं, वो हमेशा परेशानियों से घिरे रहते हैं। इससे व्यक्ति के घर और जीवन दोनो जगहों पर अशांति छा जाती है।

*- बुज़ुर्गों का अपमान:

भारतीय संस्कृति में बुज़ुर्गों के सम्मान की बात की जाती है। जो लोग अपने बुज़ुर्गों का सम्मान नहीं करते हैं, उनके ऊपर देवताओं की कृपा नहीं होती है। इस वजह से व्यक्ति जीवन भर दरिद्रता का सामना करता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close