अध्यात्म

शास्त्रों के अनुसार ये सात पत्ते होते हैं बेहद शुभफलदायी, बना सकते हैं रंक को भी राजा

पेड़ पौधें हमारे जीवन को प्रत्यक्ष और परोक्ष दोनो रूप से प्रभावित करते हैं.. प्रत्यक्ष रूप की बात करें तो इससे जीवन उपयोगी बहुत सारी वस्तुएं मिलती हैं। इसके साथ ही ये प्रकृति को स्वच्छ-सुंदर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं । वहीं शास्त्रों और ज्योतिष के अनुसार बहुत से पेड़-पौधे और उनकी पत्तियां शुभफलदायी मानी जाती है .. दरअसल हिन्दू धर्म में कुछ विशेष पत्तों का बहुत महत्व है। इन्हें शुभ और पवित्र मानकर उनका पूजा-कर्म काण्डों में प्रयोग किया जाता है। आज हम आपको ऐसे ही कुछ विशेष पत्तों के बारे में बताते हैं। सात शुभफलदायी पत्ते :

1. तुलसी पत्ता

सनातन धर्म में तुलसी के पत्तों का विशेष महत्व है .. तुलसी भगवान विष्णु को सबसे प्रिय है । ऐसे में जब भगवान को भोग लगाते हैं या उन्हें जल अर्पित किया जाता है तो उसमें तुलसी का एक पत्र रखना जरूरी होता है। माना जाता है कि तुलसी के पत्ते के सेवन से किसी प्रकार का रोग और शोक नहीं होता। हैं।

2. बिल्वपत्र

बिल्व यानि बेल के पत्र का भी हिन्दू धर्म में विशेष महत्व है.. विशेषकर बेल पत्र भगवान शिव का प्रिय माना जाता है। ऐसे में मान्यता है कि भगवान शिव को बेलपत्र चढ़ाने से सौभाग्य और लक्ष्मी की प्राप्ति होती है।साथ ही बिल्वपत्र के सेवन से त्रिदोष यानि वात,पित्त और कफ का नाश होता है। इसके साथ ही ये त्वचा रोग और डायबिटीज से बचाव करता है ।

3. पान का पत्ता

पान के पत्ते का भी भारतीय संस्कृत में विशेष महत्व है । कई सारे पूजन कार्यक्रमों में इसका उपयोग उपयोग किया जाता है। कलश स्थापना में आम के साथ पान के पत्तों का उपयोग किया जाता है। इसेक साथ ही प्राचीनकाल में उपचार के लिए भी पान का इस्तेमाल किया जाता था .. कहते हैं कि ये रक्तस्राव को रोकता है और इसे खाने से भीतर कहीं से बह रहा खून भी रुक जाता है।

4. केले का पत्ता

केला का पत्ता भी धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण माना जाता है । विष्णु भगवान और देवी लक्ष्मी को केले का भोग लगाया जाता है और इसके साथ ही केले के पत्तों में प्रसाद भी बांटा जाता है। मान्यता है कि सुख-समृद्धि के उद्देश्य से केले के पेड़ की पूजा फलदायी होती है। साथ ही केला स्वास्थ्य और शक्तिवर्धक होने के साथ नेत्रदोष में हितकारी है।

5. आम के पत्ते

आम के पत्तों को भी शुभ माना जाता है और मांगलिक कार्यों में इसका इस्तेमाल मंडप, कलश आदि सजाने में किया जाता है। साथ ही नए घर या दुकान के मुख्य दरवाजे पर आम की पत्तियां लटकाना भी शुभफलदायी माना जाता है। इससे उस स्थान विशेष में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति के के साथ ही सकारात्मक ऊर्जा भी प्रवेश करती है।

6 शमी के पत्ते

हिन्दू धर्म में शमी के वृक्ष का भी काफी महत्व है। मान्यता अनुसार बुधवार के दिन भगवान गणेश को शमी के पत्ते अर्पित करने से बुद्धि तेज होती है और कलह का नाश होता है।

7. पीपल के पत्ते

पीपल के पत्तें भी धार्मिक दृष्टि से विशेष महत्व रखते हैं। माना जाता है कि पीपल के पेड़ में भगवान विष्णु का निवास होता है। साथ ही शनिवार की शाम पीपल के पेड़ के नीचे दीपक जलाने से दुखों का नाश होता है और समृद्धि आती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close