रेणुका का बयान ‘संसद में पीएम करें महिलाओं की बेइज्जती, तो सड़क कैस होगी सुरक्षा’

नई दिल्ली: सदन में रेणुका की हंसी का विवाद बढ़ता हुआ दिखाई दिया। जी हां, बुधवार को पीएम मोदी द्वारा रेणुका की हंसी पर की गई टिप्पणी को लेकर कांग्रेस बीजेपी को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। बजट सत्र के पहले भाग के आखिरी दिन भी रेणुका ने पीएम के उस बयान पर कटाक्ष किया, जिसमें पीएम मोदी ने रेणुका की हंसी पर टिप्पणी की थी। बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के निर्देश के एक दिन बाद जगी कांग्रेस। आइये जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?

बुधवार को सदन का माहौल तब गरम हो गया जब पीएम मोदी भाषण दे रहे थे। जी हां, जिस दौरान पीएम मोदी भाषण दे रहे थे, उस समय कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी खूब हंस रही थी, जिसकी वजह से पीएम मोदी ने उन पर टिप्पणी करते हुए कहा कि रामायण सीरियल के बाद ऐसी हंसी देखने को मिली। बताते चलें कि इतना ही नहीं, केंद्रीय गृहमंत्री राज्य ने रेणुका की तुलना राक्षसी से कर दी, जिसके बाद से ही कांग्रेस इस मुद्दे को लेकर संसद में बीजेपी की सरकार को घेरती हुई नजर आई।

शुक्रवार को राज्यसभा में बजट पर चर्चा के दौरान रेणुका ने फिर अपनी हंसी का मुद्दा उठाते हुए कहा कि सदन में पीएम महिलाओं की  बेइज्जती करते है और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री ट्वीट करते हैं, तो ये सरकार सड़क पर महिलाओं की सुरक्षा कैसे करेगी? इस दौरान अपने भाषण को जारी रखते हुए रेणुका ने कहा कि इस सरकार ने निर्भया फंड में कटौती की, जबकि ये फंड बलात्कार के बाद महिलाओं को मदद के रूप में एक राशि थी, लेकिन सरकार ने इसे कम कर दिया।

रेणुका ने सदन में बीजेपी को घेरते हुए कहा कि महिला सुरक्षा के नाम पर आंकड़े देने से कुछ नहीं होगा, बल्कि इरादा होना चाहिए, इरादे के लिए मर्यादा होनी चाहिए। इसके अलावा रेणुका ने आगे कहा किअगर सरकार ये नहीं दे सकती है, तो बजट का आकड़ा देना शर्म की बात है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.