महाशिवरात्रि के इस मंत्र के जप से भोलेबाबा करते हैं हर मनोकामना पूरी, जानिये वह ख़ास मंत्र

शिवरात्रि सनातन धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है जो कि फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष में चतुर्दशी को मनाया जाता है। ऐसी पौराणिक मान्यता है कि इसी दिन भगवान शंकर का विवाह मातापार्वती के साथ हुआ था। साथ ही कुछ लोग ये भी मानते हैं कि सृष्टि का आरंभ इसी दिन से हुआ था और सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि भगवान शंकर का ब्रह्मा से रुद्र के रूप में अवतरण हुआ था। ऐसे में इस दिन भगवान शिव की पूजा आराधना का विशेष महत्व है … कहते हैं कि महाशिवरात्रि पर भगवान शिव मानवजाति के काफी समीप आ जाते हैं और ऐसे में इस दिन की उनकी पूजा अराधना की विशेष कृपा मिलती है इसीलिए लोग शिवरात्रि के दिन-रात जागरण कर भगवान शिव की स्तुति करते हैं । माना जाता है कि इस दिन हर कामना के लिए विशेष पूजा कर भगवान शिव को प्रसन्न कर सकते हैं। आज हम आपको ऐसे ही कुछ कामना विशेष पूजा की विधियां बता रहे हैं।

महाशिवरात्रि जो भी कोई उनसे सच्चे हृदय से कुछ मांगता है वो जरूर मिलता

भगवान शंकर को भोले बाबा कहा जाता है क्योंकि मान्यता है कि जो भी कोई उनसे सच्चे हृदय से कुछ मांगता है वो जरूर मिलता है हां बस इसके लिए अपनी भक्ती और पूजा विधि से प्रसन्न करना होता है .. आज हम ऐसी कुछ विशेष कामना सिद्धी पूजा की विधियां बता रहे हैं । जैसे कि विशेष मनोकामना पूजा के लिए अलग-अलग तरह के शिवलिंगों का पूजा में प्रयोग किया जाता है।

जहां पार्थिव शिवलिंग का अभिषेक और पूजन हर प्रकार के कार्य सिद्धिदायी होता है.. वहीं अगर आप अपना प्रेम पाने के लिए पूजन कर रह हैं तो इसके लिए गुड़ के शिवलिंग का अभिषेक व पूजन करना चाहिए। जबकि जौ, चावल या आटे के शिवलिंग का पूजन दाम्पत्य सुख, संतान प्राप्ति के लिए किया जाता है। इसके अलावा लोग पीतल या कांसे के शिवलिंग का पूजन मोक्ष प्राप्ति के लिए करते हैं।

महाशिवरात्रि पूजा विधि

अब बात करते हैं विशेष पूजा विधियों कि जिससे कि भगवान शिव आपकी हर तरह की मनोकामना जरूर सुनेंगे।

तो अगर आप धन-सम्पदा की प्राप्ति के उद्देश्य से शिवरात्रि पूजन कर रहे हैं तो महाशिवरात्रि के दिन शिवजी की अर्चना करने के बाद नीचे दिए गये मन्त्र की दस माला का जाप करें।

मन्त्र – ऊं श्रीं ऐं ऊं

वहीं बहुत से लोग सुयोग्य जीवनसाथी की मनोकामना से भी शिवरात्रि का व्रत और पूजन करते हैं.. ऐसे में शीघ्र और सुयोग्य वर या वधु पाने के के लिए शिवजी की पूजा नीचे दिए गये मन्त्र के साथ करें।

मन्त्र – हे गौरि शंकरार्धांगि यथा त्वं शंकरप्रिया। तथा मां कुरु कल्याणी कान्तकांता सुदुर्लभाम

अगर आपके घर-परिवार में लगातार समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं। तो इसेक लिए भी आपको शिवरात्रि के दिन विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए। इसके लिए

महाशिवरात्रि के दिन बेल पत्र, भांग, धतूरा चढ़ाने के साथ इस मन्त्र का जाप करें।

मन्त्र – ऊं साम्ब सदा शिवाय नमः

वहीं अगर किसी व्यक्ति की संतान का विवाह नहीं हो पा रहा है तो फिर संतान के शीघ्र विवाह हेतु भी आप इस दिन भोलेबाबा की अराधना कर सकते हैं। इसके लिए आप एक मूंगा की माला लें और शिवजी की पूजा करने के बाद बताए गए मंत्र का एक माला का जाप अपने संतान से करवाएं।

मन्त्र – पत्नी मनोरमां देहि मनोवृत्तानु सारिणीम्। तारिणीं दुर्गसंसार सागरस्य कुलोद्भवाम्।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.