अगर आपको भी दिखें टांसिल के ये लक्षण, तो आज ही अपनाएं ये आसान घरेलू नुस्खे

हेल्थ डेस्क: इस बात को हम सभी जानते ही हैं कि मनुष्य का शरीर पांच तत्वों से मिल कर बना है. इसलिए बीमारी भी मनुष्य का एक अहम हिस्सा है. हमारे खान पान और दिनचर्या से कईं बार हमे  रोग होने का खतरा बना रहता है. इन्ही रोगों में से टांसिल भी एक ऐसा रोग है, जो लंबे समय तक मनुष्य के गले को अपना शिकार बना लेता है. दरअसल, हर मनुष्य  के गले में एक ग्रंथि या मांस की गाँठ होती है, जिसपर जब कोई बाहरी पदार्थ संक्रमण करे तो गले में एक सूजन या जख्म बन जाता है. इसी  सूजन को टांसिल के नाम से जाना जाता है. आपको हम बता दें कि टांसिल एक कष्टदायक रोग है जिससे मनुष्य के गले में दर्द की समस्या बनी रहती है.

बहुत बार टांसिल से मनुष्य के गले में खराश पैदा हो जाती है और उसकी आवाज़ में बदलाव या भारीपन आ जाता है. विज्ञानिक भाषा में इस बदलाव को “टॉन्सिलाइटिस ” नाम से जाना जाता है. आज के इस आर्टिकल में हम आपको टांसिल  कुछ लक्ष्ण और उनको ठीक करने के आसान घरेलू उपाय बताने जा रहे हैं.

टांसिल के लक्ष्ण 

  • टांसिल पीड़ित मनुष्य को अक्सर सुखी बलगम आती है.
  • इससे पीड़ित रोगी के शरीर का तापमान उच्च स्तर पर बना रहता है.
  • बहुत सारे टांसिल रोगियों को ज्वर के साथ साथ कंपकंपी भी महसूस होती है.
  • इन सब के इलावा टांसिल के रोगी के मुंह से दुर्गन्ध आती है.

अपनाएं ये आसान उपाय 

  • टांसिल के इलाज के लिए गुनगुना पानी रामबाण सिद्ध होता है. क्योंकि यह पानी गले में आई सूजन से मनुष्य को आराम दिलाता है. अगर बार आप दिन में दो से तीन बार गुनगुने पानी से गरारे करें तो इससे आपके गले में आई सूजन से आपको जल्दी आराम मिलेगा और साथ ही आपको दर्द में भी राहत मिलेगी. गुनगुने पानी के इलावा तुलसी और अदरक की चाय भी आपके लिए लाभदायक सिद्ध हो सकती है. इसके लिए आप तुलसी के पत्ते और काली मिर्च के साथ अदरक को पानी में उबाल कर काढ़ा बनाकर पी ले. आप चाहे तो रात में इन्हे दूध में मिलाकर भी पी सकते हैं. इससे आपका टांसिल ठीक हो सकता है.
  • आयुर्वेदिक विशेषज्ञ डॉक्टर राजीव दीक्षित जी के अनुसार हल्दी एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधि है जो कि कई दवाओं के रूप में इस्तेमाल की जाती है. आपको हम बता दें कि टांसिल के लिए हल्दी रामबाण सिद्ध हो सकती है. अगर आप रोजाना गरम पानी में हल्दी मिलाकर गरारे करें तो इससे आपको काफी आराम मिल सकता है. इसके इलावा गुनगुने पानी में हल्दी काला नमक और काली मिर्च मिलाकर इसे उबाल कर गरारे कर सकते हैं. ऐसा करने से आपको दर्द में काफी आराम मिलेगा.
  • काली मिर्च एक एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट आयुर्वेदिक औषधि है जो हमारे गले के दर्द एवं टांसिल में हमें आराम पहुंचाती है. इसलिए आप चारे में काली मिर्च को मिलाकर पिएं इससे आपका गले का दर्द दूर हो जाएगा.

तो दोस्तों अगर आपको भी इन लक्षणों में से कोई लक्ष्ण दिखाई दे तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क कर लें और उचित जांच करवाएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.