उत्तर प्रदेश: देशभर में फिल्म पद्मावत को लेकर जारी विवाद पर यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने अब तक दिया सबसे बड़ा बयान। जी हां, अखिलेश यादव ने केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की योगी सरकार पर जमकर बरसें। आइये जानते हैं कि आखिर अखिलेश ने पद्मावत को लेकर जारी विवाद पर ऐसा क्या कह दिया, जिससे राजनीति में हलचलें मच गई हैं?

संजय लीला भंसाली की फिल्म भले ही रिलीज हो चुकी है, लेकिन इसे लेकर जारी विवाद पर अब जमकर सियासत होती दिखाई दे रही है। जी हां, विपक्ष एक सुर में बीजेपी को विवाद के लिए जिम्मेदार ठहराया है। बता दें कि पहले दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने केंद्र की मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला था, उसके बाद राहुल गांधी भी पद्मावत विवाद पर खुद खामोश नहीं रख पाए, जिसके बाद राहुल ने बीजेपी पर गंभीर आरोप भी लगायें। राहुल, केजरीवाल और ओवैसी के बाद पद्मावत बवाल में यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव भी कूद चुके हैं।

अखिलेश ने गुरूवार को कहा कि कि ‘पद्मावत’ के विरोध में प्रदर्शन करने वालों में बीजेपी के लोग शामिल हैं। बता दें कि पत्रकारों से बात करते हुए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी वाले ही विरोध में शामिल है, जिसमें एक ओर वे विरोध कर रहे हैं तो दूसरी ओर ऐसा दिखा रहे हैं कि मानो वे हालात को नियंत्रित कर रहे हैं, लेकिन वास्तव में विरोध में बीजेपी के लोग ही शामिल है।पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने अपने ही अंदाज में बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि यूपी की राजधानी लखनऊ में हुए प्रदर्शनों की सीसीटीवी फुटेज देखी जाए तो पता चलेगा कि प्रदर्शन के पीछे कौन है?

साथ ही अखिलेश ने बीजेपी पर देश का माहौल खराब करने का आरोप भी लगाया है, जिसके बाद से ही सूबे में सियासत तेज हो गई है। याद दिला दें कि सपा नेता अहमद हसन ने बुधवार को कहा था कि योगी सरकार कानून व्यवस्था कायम रखने में नाकाम रही है, जिसकी वजह से उन्होंने राज्यपाल राम नाईक से हस्तक्षेप का अनुरोध भी किया था। इससे पहले मुस्लिम नेता औवेसी ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा था कि 56 इंच का सीना केवल मुस्लिमों के लिए ही है? बहरहाल, अब देखना ये होगा कि आखिर पद्मावत पर जारी विवाद पर सियासत किस मोड़ पर मुड़ती है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.