कनाडा के इस शख्स ने घर के पीछे ज़मीन में दफना दी 42 बसें, सच्चाई जानकर लोग रह गए सन्न

कनाडा के रहने वाले एक व्यक्ति ने अपने घर के पीछे 42 बसें दफना दी थीं. यह बसें उसने ज़मीन के नीचे कई साल पहले दफनाई थीं. उसकी यह हरकत देखकर पहले तो लोग बहुत हैरान हुए लेकिन जब उन्हें इसके पीछे का कारण पता चला तो उसकी तारीफ किये बिना रह नहीं पाए. बस को दफ़नाने का काम उसने अपनी पत्नी के साथ मिलकर किया. उस व्यक्ति ने बसों के अंदर एक ऐसी सुरंग बनायी जो परमाणु हमले को सहने में मदद करेगा.

बसों के अंदर सुरंग बनाने वाले इस व्यक्ति का नाम ब्रूस बीच है. दरअसल, ब्रूस को बहुत पहले से इस बात की आशंका थी कि आने वाले समय में परमाणु हमला हो सकता है. उसने कहा कि देशों के बीच बढ़ रहे तनाव से कभी भी युद्ध की स्थिति पैदा हो सकती है. इस वजह से साल 1980 से ही उसने ज़मीन के नीचे बसों की यह सुरंग बनानी शुरू कर दी थी.

ज़मीन के अंदर बनी इन सुरंगों में परमाणु हमलों को सहन करने की ताकत है. ब्रूस ने आगे बताते हुए कहा कि घर के पीछे उसने मिट्टी के नीचे करीब 10,000 स्क्वायर फीट चौड़ी सुरंग बनाई है. ये सुरंग 42 बसों की मदद से तैयार हुई है. इनमें न्यूक्लियर अटैक झेलने की क्षमता है. इसका नाम उन्होंने ‘अर्क टू’ रखा है.

इस सुरंग को बनाने के लिए ब्रूस ने 42 स्कूल बसें 12,600 डॉलर (8.5 लाख) में खरीदी थी. इस सुरंग में रहने के लिए तमाम सुविधाओं का प्रबंध किया गया है. एक साथ 350 लोग आराम से इस सुरंग में रह सकते हैं. इतने ही लोगों के खाने का इंतजाम भी इस सुरंग में आसानी से किया जा सकता है.

आपको बता दें कि किम जोंग जो कि नार्थ कोरिया का तानाशाह है आये दिन परमाणु हथियारों की ताकत दिखाकर हमले की धमकी दुनियाभर को देता रहता है. उसकी इस धमकी से लोगों में कई बार तनाव का भी माहौल बन जाता है. ऐसा इसलिए क्योंकि परमाणु अटैक से बच पाना लगभग नामुमकिन है. परमाणु अटैक होने पर भारी संख्या में लोगों की जान जा सकती है. इसलिए ब्रूस ने पहले से ही इस समस्या का समाधान निकाल लिया है. यह सुरंग भविष्य में होने वाले परमाणु हमले से कुछ लोगों की मदद तो ज़रूर करेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.