नई दिल्‍ली – देश के कुछ बड़े नेताओं पर आने वाले कुछ दिनों में एक बड़ी मुसीबत आते हुए नज़र आ रही है। अगर ऐसा होता है तो देश के पूर्व प्रधानमंत्रियों और राष्‍ट्रपतियों व मुख्यमंत्रियों समेत कई नेता सड़क पर आ जाएंगे। दरअसल, आने वाले कुछ दिनों में इन नेताओं को सरकार की ओर से मिले अपने सरकारी बंगले खाली करने पड़ सकते हैं। आपको बता दें कि देश के पूर्व सॉलिसिटर जनरल गोपाल सुब्रहमण्‍यम ने देश की शीर्ष कोर्ट को एक सुझाव दिया है, जिसमें इन बंगलों को खाली कराने की बात कही गई है। अब यह कोर्ट के ऊपर है कि वह इस सुझाव को मानता है या नहीं।

लेकिन, अगर कोर्ट गोपाल सुब्रहमण्‍यम के सुझावों को मान लेती है तो पूर्व पीएम मनमोहन, अटल बिहारी वाजपेयी समेत पूर्व राष्‍ट्रपति प्रतिभा पाटिल को अपने सरकारी बंगले खाली करने पड़ सकते हैं। यह मामला उस वक्त शुरु हुआ जब ‘लोक प्रहरी’ नाम की एक एनजीओ ने कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की। इस एनजीओ की याचिका पर जस्टिस रंजन गोगोई और नवीन सिन्हा की अदालत ने गोपाल सुब्रमण्यम को इस मामले में एमिकस क्यूरी नियुक्त किया और अब उन्होंने अपनी रिपोर्ट कोर्ट को सौंप दी है।

पू्र्व सॉलिसिटर जनरल गोपाल सुब्रमण्यम ने देश के पूर्व राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को उनके कार्यकाल के बाद दिए जाने वाले निवास को खाली कराने का सुझाव दिया है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि, पद से हटने के बाद भी देश के पूर्व नेता अभी भी अपने सरकारी आवास में ही रह रहे हैं जो पूरी तरह से कानून का उल्लंघन है। ‘लोक प्रहरी’ नाम की एनजीओ द्वारा कोर्ट में दायर इस जनहित याचिका में देश में सेवानिवृत्त होने के बाद भी सरकारी बंगलों के इस्तेमाल पर कार्रवाई करने की मांग कि गई थी।

पू्र्व सॉलिसिटर जनरल गोपाल सुब्रमण्यम ने जो सुझाव कोर्ट को दिये हैं अगर उन्हें मान लिया गया तो कई मुख्यमंत्रियों को भी बेघर होना पड़ सकता है। गौरतलब है कि अगस्त 2016 में सुप्रीम कोर्ट ने एनजीओ लोक प्रहरी की याचिका पर यूपी के 6 पूर्व सीएम से सरकारी बंगले खाली करा लिया था। लेकिन, कोर्ट अगर ये फैसला मान लेती है तो देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी को भी अपना आवास खाली करना पड़ सकता है। ऐसी स्थिती में वो कहां रहेंगे यह एक बड़ा सवाल है। आपको बता दें कि कोर्ट ने इससे पहले मुलायम सिंह यादव, मायावती, कल्याण सिंह, राजनाथ सिंह, रामनरेश यादव और एन डी तिवारी से भी उनका आवास खाली करने का आदेश दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.