ठंड में जा रही थी स्कूल, रास्ते में ट्रक से हुई टक्कर ने बदल दी जिंदगी!

पंजाब : जैसा की हम सभी जानते ही हैं कि ठंड का कहर रात से ही मौसम में धुंध फैलाता नजर आ रहा है. आज सुबह भी धुंध ने तब दानवीय रूप ले लिया जब 12वीं कक्षा की छात्रा का स्कूटी ट्रक से टकरा गई जिसके बाद वह छात्रा उस ट्रक के टायर के नीचे आ गई. इस दर्दनाक मौत में मृतका के शरीर के चिथड़े उड़ गए और मौके पर ही ड्राइवर गाड़ी छोड़ वहां से फरार हो गया. पुलिस ने जब लाश की शनाख्त की तो उसकी पहचान अंकिता ठाकुर के रूप में हुई जिसके पिता का नाम सुशील ठाकुर है और वे होशियारपूर के एक गांव सेंचा के रहने वाले हैं. बहरहाल, चलिए जानते हैं पूरा मामला…

दरअसल, सुबह 9:30 बजे अंकिता अपने घर से स्कूटी लेकर स्कूल के लिए जा रहा थी. ठण्ड के कारण अंकिता के शहर में धुंध और कोहरा छाया हुआ था. जब वह अज्जोवाल गांव के पुली के पास से गुजरी तो तेज रफ्तार से आ रही ट्रक के चपेट में आ गई. पुलिस के अनुसार घने कोहरे की वजह से अंकिता अपने आगे चल रहे ट्रक की दूरी को ठीक से भांप नही पाईये थी और अचानक उसकी स्कूटी ट्रक से टकरा गई. स्कूटी के ट्रक से टकराने के बाद उसका संतुलन बिगड़ा और वह ट्रक के चक्के के आगे जा गिरी. जिसके बाद अंकिता को वह ट्रक अपने पहियों से कुचलता हुआ आगे बढ़ गया. इतना बड़ा हादसा होते देख ड्राइवर ने बिना आव – ताव देखे वहां से भागना ही बेहतर समझा और ट्रक को वहीं छोड़ भाग निकला. इस घटना की खबर पुलिस को तब हुई जब वहां उपस्थित ग्रामीणों ने नजदीकी थाने को सूचित किया.

अंकिता के घरवालों ने बताया कि हर रोज अंकिता अपने दोस्तों के साथ ही पढ़ने जाती थी. लेकिन आज सुबह बदकिस्मती से वह घर से अकेली निकली थी. जानकारी के अनुसार उस समय करीबन  9:45 बज चुके थे. अंकिता के परिजनों के अनुसार घर से बस 5 ही मिनट दूर रास्ता तय करने के बाद उसके साथ इतना बड़ा हादसा हो गया औरउनके  सारे सपने धरे के धरे रह गए. मृतका के चाचा रूबी ठाकुर बताते हैं कि उनकी भतीजी की उम्र अभी मात्र 18 वर्ष थी और वह बचपन से ही पुलिस में जाना चाहती थी. अक्सर वह समाज मे फैल रहे भ्रष्टाचारों को लेकर चिंतित रहती थी और महिला पुलिस अफसरों से हमेशा प्रेरणा लेती थी. लेकिन इस हादसे के बाद उसके सपनो की भी उसके साथ ही मृत्यु हो गयी.

सिर्फ परिजन ही नही बल्कि, उसके स्कूल के टीचर और प्रिंसिपल भी इस घटना से आहत हुए. जैसे ही SD स्कूल होशियारपुर  के प्रिंसिपल अजीत कलेर को इस बात की खबर मिली, उनका रक्तचाप अचानक से बढ़ने लगा और वह मूर्छित होकड गिर पडे. स्थिति काफी बिगड़ने की वजह से वो भी उसी अस्पताल में भर्ती हैं जहां अंकिता का पोस्टमार्टम किया गया था.

खबर के मुताबिक स्कूल के टीचर ने मंगलवार को मीटिंग के दौरान यह मांग की थी कि स्कूल में 2 दिनों की छुट्टी कर दी जाए. ऐसा इसलिए क्योंकि वहां कड़ाके की ठंड पड़ रही है. लेकिन प्रशासन ने इस बात को नामंजूर करते हुए सिर्फ स्कूल का टाइम बदला. लेकिन इस निर्णय का सबसे बुरा प्रभाव आज देखने को मिला जब एक मासूम छात्रा की इतनी दर्दनाक मौत हो गई. इस बात में कोई दो राय नही कि पंजाब में ठंड का स्तर काफी अधिक देखने को मिलता है. लेकिन, ये ठंड किसी मासूम की जान लेगी ऐसा किसी ने भी नहीं सोचा था.

इसके इलावा हम आपको बता दें कि अब इतनी बड़ी घटना के बाद एजुकेशन सेक्रेटरी ने भी नया आदेश जारी कर दिया है. लेकिन इससे मामला और भी बिगड़ता नजर आ रहा है. क्योंकि डीसी साहब और एजुकेशन सेक्रेटरी दोनो के आदेशों में स्कूल खुलने के टाइमिंग को लेकर काफी भिन्नताएं देखी गई है. बहरहाल, पुलिस ने मृतक बच्ची के मामले में कारवाई शुरू कर दी है और फिहाल पुलिस उस ड्राईवर की तलाश में जुटी हुई है.