राफेल डील हुई फाइनल, पाक जैसे दुश्मनों पर कहर बनकर टूटेगा ये “फाइटर प्लेन”

नई दिल्ली: फ्रांस से राफेल फाइटर प्लेन की डील [ Rafale Deal ] गुरुवार को फाइनल हो गई। फ्रांस के डिफेंस मिनिस्टर ज्यां यीव ली ड्रियान की मौजूदगी में 7.878 अरब यूरो (59 हजार करोड़ रुपए) वाले राफेल जेट के सौदे पर हस्ताक्षर कर दिए गए। गौरतलब है कि भारत में बीते 20 सालों में यह पहली फाइटर जेट डील है।

क्या है Rafale Deal –

59 हजार करोड़ रुपए (787 करोड़ यूरो) की इस डील के तहत फ्रांस भारत को 36 राफेट फाइटर प्लेन देगा। इन प्लेन की सप्लाई अगले 36 महीने में यानी साल 2019 से शुरु हो जाएगी। इसे 66 महीनों के भीतर पूरा किया जाना है।

कब हुआ था डील का ऐलान –

इस डील का ऐलान अप्रैल साल 2015 में पीएम मोदी की फ्रांस यात्रा के दौरान किया गया था। मोदी की इस यात्रा के दौरान ही दोनों देशों में गवर्नमेंट-टू-गवर्नमेंट डील के लिए एक एग्रीमेंट किया था।

जाने, कौन सी कंपनी बनाती है राफेल लड़ाकू विमान –

राफेल लड़ाकू विमान को फ्रांस की कंपनी डसाल्ट एविएशन बनाती है। भारतीय वायुसेना की तरफ से 16 साल पहले इस फाइटर प्लेन को खरीदने पर विचार किया गया था। यह डील पहली बार साल 2013 में यूपीए सरकार के दौरान प्रकाश में आई थी। हालांकि उस वक्त कीमत की चलते इसे टाल दिया गया था।

भारत क्यों खरीद रहा है रफेल –

विशेषज्ञों के मुताबिक भारत रफेल इसलिए खरीद रहा है क्योंकि वो अंतरराष्ट्रीय सीमा पर देश की सुरक्षा को और चाक-चौबंद करना चाहता है। इस डील से भारतीय वायुसेना को और मजबूती मिलेगी, जो फिलहाल 1970 और 1980 के पुराने पीढ़ी के फाइटर प्लेरन इस्तेमाल कर रही है। राफेल दो इंजन वाला लड़ाकू विमान है।

इसकी खुबियां क्या है  –

सुरक्षा मानकों के लिहाज से देखा जाए तो इसमें करीब 6 मिसाइलें लगाई जा सकती हैं। वहीं यह करीब 55 हजार फीट की ऊंचाई से भी अपने दुश्मन पर बम गिरा सकता है। अगर रफ्तार की बात करें तो यह एक मिनट में करीब 60 हजार फुट की ऊंचाई तक जा सकता है। 1.30 एमएम की गन से लैस (जो कि एक बार में 125 राउंड फायर कर सकती है) यह विमान 2500 किलीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ सकता है।

कीमत पर हुआ था मोल-भाव –

 Rafale  Deal को लेकर कीमत पर दोनों देशों की सरकारों के बीच मोत-तोल हो चुकी है। आपको बता दे कि जब बीते साल फ्रांस के डसाल्ट से राफेल के कीमत को लेकर बातचीत शुरू की गई तब 36 राफेल की कीमत 12 अरब यूरो बताई थी हालांकि इसके बाद जब जनवरी में फिर से बात शुरु हुई तो इसकी कीमत 8.6 अरब यूरो पर आ टिकी। वहीं अप्रैल में अंतिम दौर की बात आते-आते रफेल डील 7.87 अरब यूरो में तय हुई। हथियार के समेत एक राफेल की कीमत 1600 करोड़ रुपए होगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.