बड़ोदरा: गुरात में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कांग्रेस के तत्कालीन निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर पर जमकर निशाना साधा। पीएम मोदी ने कहा की, जब मैं प्रधानमंत्री बना था तो अय्यर ने पाकिस्तान से कहा था कि रास्ते से मोदी को हटा दो फिर देखिये भारत-पाकिस्तान शांति को क्या होता है। मुझे रास्ते से हटाने का क्या मतलब है? मेरा अपराध केवल इतना है कि मेरे ऊपर लोगों का आशीर्वाद है। गुजरात के बनासकांठा में पीएम मोदी ने एक बार फिर कांग्रेस को निशाने पर लिया।

उन्होंने अपने संबोधन के दौरान कहा कि पाटन और बनासकांठा के लोग बीजेपी और कांग्रेस में अंतर जानते हैं। जब यहाँ बाढ़ आयी हुई थी तब कांग्रेस के विधायक बेंगलुरु में आराम फरमा रहे थे, जबकि बीजेपी बढ़ पीड़ितों के साथ काम कर रही थी। मोरबी दौरे को लेकर पीएम म ओदी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी पर निशाना साधा और कहा कि 1979 में इंदिरा गाँधी मोरबी के दौरे पर नाक पर रुमाल रखकर आयी थी। जो दुःख में काम ना आये वह अपना सगा नहीं होता है।

दुसरे चरण के चुनावी अभियान के तहत पीएम मोदी बनासकांठा के बाद कालोल पहुँचे। यहाँ उन्होंने कांग्रेस के नेता और वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल को भी निशाने पर ले लिया। उन्होंने कहा कि सिब्बल पिछले दो दिनों से बोले जा रहे हैं। वह जो चाहते हैं, उसे बोलने के लिए आजाद हैं, लेकिन वह अयोध्या मामले को इतना लम्बा क्यों खींचना चाहते हैं। देश की जनता इस मामले का निपटारा जल्द से जल्द चाहती है। 2019 में अयोध्या मामले की सुनवाई के पीछे का तर्क देने की बजाय वह यह बताने में व्यस्त हैं कि वह किसके वकील हैं।

वह कहते हैं कि वह सुन्नी वाफ्फ़ बोर्ड का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं। उन्हें यह कहना चाहिए कि वह सुन्नी वाफ्फ़ बोर्ड का प्रतिनिधित्व करने वाले होते कौन हैं। कांग्रेस अपने इस वकील नेता को क्यों नहीं हटा देती है। पीएम मोदी ने राजकोट की घटना के ऊपर भी प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि मनमोहन सिंह प्रेस से मिले, उसके बाद एक बुजुर्ग मनसुख काका ने उनसे मुलाकात की। मनसुख काका ने उन्हें यूपीए के घोटालों की लिस्ट वाली एक पुस्तक दी। मैं मनसुख काका को बधाई देना चाहता हूँ कि उन्होंने एक इमानदार सरकार का साथ दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.