मोदी के बढ़ते रुतबे को कारण चीन की चमक हुई फिंकी, मिला ऐसा सम्मान….

भारत वर्ष हमेशा से अपने ज्ञान, विवेक, कार्य क्षमत एवं संस्कृति के बल  समग्र विश्व मैं अपने निशान , अपना आधारशीला रखता  आया है. अब हाल मैं हुई  G२० समिट का उदाहरण ही ले लीजिये.  इस  G२० समिट में  भारत ने अपने  खुद को एक बलशाली एवं सम्पर्ण राष्ट के तौर पर पेश किया, और  G२० समिट में  भाग लिये सभी देशों भारत की ताक़त एवं कार्य कुशलता क लोहा माना. वो एक अलग वक़्त था जब G२० समिट मैं भारत का नाम सिर्फ़ गिनती तक ही सिमित था पर नरेंद्र मोदी ने जिस आधार शील के साथ भारत का पक्ष रख रहे हैं उस के कारण सभी देशों को भारत को उछित मान और सम्मन देना पड रहा है. हाल ही मैं हुआ  G२० समिट २०१६ खास  इसलिए भी था क्योंकि पाकिस्तान हमेह्सा की तरह इस बार भी  कश्मीर मुद्दे का राग  अलापना, चीन के संग पाक की दोस्ती एवं भारत का चीन के साथ बढता हुआ सीमा विवाद ने माहोल को तनाव पुर्ण बना रखा था

foto1

ऐसे अवसर मैं  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  को १९ देशों के राष्ट्राध्यक्षों के सामने स सशक्त छबी पेश करना था.  नरेंद्र मोदी के कार्य कुशलता की  जितनी तारीफ़ की जाये वोह कम है, क्यों कि उन्होने बेहद हि बेहतर ढंग से इस ज़िम्मेदारी का निर्वाह किया.   इस बार G२० समिट में ऐसा भी  कुछ हुआ जो अब तलक नहीं हुआ था.  G२० के बैठक मैं भारत के पहले भी कई प्रधान मंत्रीओं ने भाग लिया था  लेकिन भारत की छबी को  उस तरह सुधार नहीं पाये जिस तरह प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सुधारा.

अगले पेज पर जाने १४ साल के बाद  G२० समिट में  कौन सा कारनामा हुआ

Leave a Reply

Your email address will not be published.