इन छोटी छोटी बातों से भी होते हैं शनि प्रसन्न.. जाइये कैसे संवारे अपनी बिगड़ी हुई किस्मत

शनिदेव, जिनके प्रकोप से मनुष्य क्या देवता तक नही बच पाए ..जब कभी किसी जातक पर शनि की दृष्टि वक्र होती है तो उसकी जीवन मुश्किलों से घिर जाता है। यही वजह कि सभी लोग शनि के प्रकोप से डरते हैं लेकिन शनि को प्रसन्न करने के लिए आपको कोई बड़ा जतन करने की आवश्यकता नही  बल्कि शनि तो आपके नित प्रतिदिन के कुछ छोटी छोटी बातों से भी प्रसन्न हो सकते हैं। आइए जानते हैं क्या हैं ये बातें..

शनि के प्रकोप से डरे लोग अक्सर कुछ भी करने को तैयार रहते हैं.. ऐसें में कई बार लोग शनि के अशुभ फल से बचने के लिए बाबाओं और संत फकीरों की शरण लेने लगते हैं और बाबा ऐसे डरे हुए लोगों को और भयभीत कर बेवकूफ बनाने लगते हैं.. आपको कई सारे प्रक्रिया और उपाय बताने लगते हैं जो कि ना सिर्फ कठिन होते हैं बल्कि खर्चीले हाते हैं । ऐसे में आपको शनि को प्रकोप से डरने की बजाए शनि के अशुभ होने की वजह समझने की जरूरत होती है। दरअसल शनि इतने भी क्रूर नही है ये तो न्यायप्रिय ग्रह हैं जो कर्मों को अनुसार फल देते हैं और अगर आप शनि के अशुभ प्रभाव से बचना चाहते है तो अपने कर्मों पर ध्यान दें, वही कार्य़ करें जो न्यायोचित हो। इसके साथ ही ज्योतिष में कई छोटी छोटी बाते बताई गई हैं जिनका पालन करने से शनि प्रसन्न होते हैं और शुभ फल देते हैं। आज हम आपकों ऐसी ही कुछ बाते बता रहे हैं ..

1 अगर आप को लगता है कि आपके कुंडली मे शनि अशुभ हैं तो आपको मांसाहार का सेवन बंद कर देना चाहिए.. ऐसे में मांस, मछली, मद्य तथा नशीली चीजों का सेवन बिलकुल न करें।

2 घर की महिला जातक के साथ सहानुभूति व स्नहे बरतें क्योंकि जिस घर में गृहलक्ष्मी रोती है उस घर से शनि की सुख-शांति व समृद्धि रूठ जाती है। महिला जातक के माध्यम से शनि प्रधान व्यक्ति का भाग्य उदय होता है।

3 न्यायोचित जीवन व्यतीत करें और हमेशा ईमानदार बनें, सत्य बोलें और बड़े बुजुर्गों को सम्मान दें।

5 सूर्योदय के पूर्व अवश्य जागें और शिव जी की उपासना करें।

6  शनि देव के मूल मंत्र ‘ॐ शं शनैश्चराय नमः’ का जाप करें।

7 उड़द की दाल के बड़े या उड़द की दाल, चावल की खिचड़ी बांटनी चाहिए। प्रत्येक शनिवार को लोहे की कटोरी में तेल भरकर अपना चेहरा देखकर उसमें बत्ती लगाकर उसे शनि मंदिर में जला देना चाहिए।

8 तुलसी के पौधे में और पीपल में जल डालें।

9 शनिवार सायंकाल सरसों के तेल का दीपक चौराहे या पीपल के नीचे जलाएं।

10 कभी भी हरे पेड़ ना काटें और ना ही गर्भपात करवायें।

11 खाली पेट नाश्ते से पूर्व काली मिर्च चबाकर गुड़ या बताशे से खाएं।

12 भोजन करते समय नमक कम होने पर काला नमक तथा मिर्च कम होने पर काली मिर्च का प्रयोग करें।

13 गुड़ व चने से बनी वस्तु भोग लगाकर अधिक से अधिक लोगों को बांटना चाहिए।

इसप्रकार से रोजाना की गयी ये छोटी छोटी बातें शनि देव को प्रसन्न करती हैं और उनके अशुभ फल को शुभ परिणामों मे बदल देती हैं।

Share this

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.