विशेष

सिर्फ आतंक नहीं बल्कि इन 8 अजीबोगरीब कानून के लिए भी फेमस है पाकिस्तान,जानिए कौन से हैं वो कानून

प्राचीन समय से ही कानून किसी भी सभ्यता का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग रहा है. यह समाज में लोगों को न्याय दिलाने और एक शांतिपूर्ण समाज की रचना के लिए बहुत ज़रूरी होते हैं. आधुनिक समाज में भी हर देश की अपनी सहूलियत के हिसाब से अलग-अलग कानून होते हैं. लेकिन हर देश में कुछ न कुछ कानून ऐसे होते हैं जो बड़े ही अजीबोग़रीब होते हैं. वैसे ही हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान में भी कुछ अटपटे कानून मौजूद हैं जिनके बारे में जानकर आप हैरान हो जायेंगे.

गर्लफ्रेंड बनाना बैन 

पाकिस्तान में क़ानूनी तौर पर गर्लफ्रेंड बनाना बैन है. पाकिस्तान गर्लफ्रेंड बनाने के कल्चर को पश्चिमी सभ्यता का पाकिस्तान के कल्चर पर हावी होना मानता है. इसलिए आप शादी किये बिना किसी लड़की के साथ नहीं रह सकते. हालांकि इस कानून का उतनी सख्ती के साथ पालन नहीं किया जाता. बॉलीवुड की फिल्मों का पाकिस्तान के समाज के ऊपर बहुत गहरा प्रभाव है जिसकी वजह से उनकी सोच पश्चिमी सभ्यता के प्रति धीरे-धीरे घुल रही है.

एक महीने बाहर खाना मना

रमज़ान मुसलमानों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण महीना होता है. जैसे हमें पता है कि पाकिस्तान एक इस्लामिक देश है तो वहां के कानून के अनुसार रमज़ान के पाक़ महीने में घर के बाहर कुछ भी खाना ग़ैर-कानूनी है. लेकिन इस कानून के साथ समस्या ये है कि इसे दूसरे धर्म के लोगों पर भी थोपा जाता है. अगर आप मुसलमान नहीं भी हैं तब भी आपको इस नियम का पालन करना पड़ेगा.

पासपोर्ट नहीं मिलता

पाकिस्तान में आपको तब तक पासपोर्ट नहीं मिलेगा जब तक आप ये ऐलान नहीं कर देते कि पाकिस्तान में रहने वाले अहमदी समुदाय के लोग मुसलमान नहीं होते. साल 1974 तक पाकिस्तान में अहमदी समुदाय के लोगों को इस्लाम का हिस्सा माना जाता था. लेकिन उसके बाद पाकिस्तान की सरकार ने उन्हें कानूनी तौर पर इस्लाम से बाहर कर दिया. आप इसी बात से अंदाज़ा लगा सकते हैं कि पाकिस्तान के उन नागरिकों के साथ कैसा बर्ताव किया जाता होगा जिनका धर्म इस्लाम नहीं है.

कोई भी इसराइल नहीं जा सकता      

 

पाकिस्तान अपने किसी भी नागरिक को इसराइल जाने के लिए वीज़ा नहीं देता है. इस वजह से कोई भी पाकिस्तानी यहां से सीधे इसराइल नहीं जा सकता. अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा क्यों है? दरअसल पाकिस्तान की नज़र में इसराइल देश ही नहीं है. पाकिस्तान मानता है कि फिलिस्तीनीयों की ज़मीन पर इसराइल ने कब्ज़ा कर रखा है और इस वजह से यहां जाने के लिए पाकिस्तान वीज़ा नहीं देता.

पढ़ाई पर टैक्स

पाकिस्तान में केवल 55 प्रतिशत लोग ही पढ़े-लिखे हैं. ऐसे में वहां की सरकार पढ़ाई पर ज़्यादा पैसे खर्च करने की बजाय पढ़ाई करने पर ज़्यादा टैक्स लगा रही है. अगर किसी स्टूडेंट की पढ़ाई पर साल में 2 लाख से ज़्यादा का खर्च बैठता है तो उसे 5 प्रतिशत टैक्स भरना पड़ता है.

नहीं उड़ा सकते प्रधानमंत्री का मज़ाक

जहां भारत के लोग प्रधानमंत्री मोदी का मज़ाक उड़ाने के लिए पूरी तरह आज़ाद हैं वहीं पाकिस्तान में अगर आप प्रधानमंत्री का मज़ाक उड़ाते हुए पकड़े गए तो आपको अच्छा खासा जुर्माना भरना पड़ सकता है. पाकिस्तान में प्रेसिडेंट या पीएम बंनने के लिए पढ़ा-लिखा होना आवश्यक नहीं है. लेकिन स्कूल में अगर आप चपरासी की नौकरी भी ढूंढने जायेंगे तो पढ़ा-लिखा होना बेहद आवश्यक है.

बिना अनुमति फ़ोन छूना अपराध

पाकिस्तान में किसी से आज्ञा लिए बिना उसका फ़ोन छूना कानूनन अपराध है. अगर आपने ऐसी गुस्ताखी की तो पाकिस्तान में आपको 6 महीने जेल की सज़ा मिल सकती है. पाकिस्तान में आप किसी को फालतू मेसेज नहीं नहीं कर सकते. ऐसा करने पर आपको 10 लाख रुपये तक का जुर्माना देना पड़ सकता है.

अरेबिक शब्दों का अंग्रेज़ी में अनुवाद

पाकिस्तान में कुछ अरेबिक शब्दों का इंग्लिश ट्रांसलेशन करना ग़ैरकानूनी है. कुछ अरेबिक शब्दों जैसे- अल्लाह, मस्जिद, रसूल या नबी का अंग्रेज़ी में अनुवाद करना पाकिस्तान में सख्त मना है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close