हर आदमी पेशाब करते वक्त करता है ये बड़ी गलती, संभल जाइये नहीं तो हो जाएंगे….

टॉयलेट एक दैनिक क्रिया है। लेकिन बहुत कम लोग ये बात जानते हैं कि टॉयलेट का सीधा संबंध हमारे स्वास्थ्य से होता है। डॉक्टर्स के मुताबिक, समय पर टॉयलेट जाना एक जरुरी प्रक्रिया है जिससे हमारे शरीर की सारी गंदगी बाहर निकलती है। लेकिन, कई बार देखा जाता है कि ऑफिस या घर में किसी काम में व्यस्त रहने की वजह से लोग आपना पेशाब काफी देर तक रोके रखते हैं। लोग अपना काम खत्म करने के बाद ही वॉशरुम जाते हैं। इसके अलावा, और भी कई चीजें होती हैं जो हमारे स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव ड़ालती हैं।

 

पेशाब को लेकर न करें ये गलतियाँ

आज हम बात कर रहे हैं पेशाब को लेकर कि जाने वाली उन गलतियों कि जो अमूमन हर आदमी अंजाने में ही सही कर रहा है। सबसे पहली बात कि जो लोग दिन को छोड़कर रात के वक्त कई बार पेशाब जाते हैं, उन्हें सावधान हो जाने कि जरुरत है। क्योंकि डॉक्टर्स के मुताबिक रात को पेशाब जाने की ये आदत ऐसे लोगों के लिए जानलेवा साबित हो सकती है। पेशाब करते समय अक्सर लोग अंजाने में कुछ ऐसी गलतियां करते हैं जो बाद में चलकर जानलेवा बिमारियों को जन्म देती है।

पेशाब को देर तक रोकना

अमूमन देखा जाता है कि ऑफिस या घर में किसी काम में व्यस्त रहने की वजह से लोग आपना पेशाव काफी देर तक रोके रखते हैं। लोग अपना काम खत्म करने के बाद ही वॉशरुम जाते हैं। तो ऐसे लोगों को ये बात ध्यान में रखनी चाहिए की ज्यादा देर तक यूरिन या पेशाब रोकने से किडनियों पर बहुत बुरा असर पड़ता है। इससे किडनियों के खराब होने का खतरा बढ़ जाता है और ऐसा करने से अन्य प्रकार की बिमारियों के होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

आवश्यकता से कम पानी पीना

घर आया हुआ मेहमान खुद से ही मांगता है ठंढा पानी तो होता है यह...

अगर आप किसी डॉक्टर से पूछेंगे कि स्वस्थ रहने के लिए सबसे जरुरी क्या है। तो उसका जवाब यही होगी कि पौष्टिक आहार और उचित मात्रा में पानी पीना। यानि पानी हमारे शरीर के लिए बहुत ज्यादा जरुरी है। बिना पानी के जीवन संभव ही नहीं है। डॉक्टर्स बताते हैं कि एक व्यक्ति को दिन में कम से कम 10-12 गिलास पानी पीना ही चाहिए। लेकिन, लोग अपनी व्यस्थता के कारण ऐसा नहीं कर पाते और शरीर को उचित मात्रा में पानी नहीं मिल पाता है।

 

पेशाब पीला हो तो संभल जाइये

ऐसे लोग जो बहुत कम पानी पीते हैं उन्हें अक्सर पीले पेशाब आने की शिकायत होती है। अपने स्वास्थ्य की जांच का सबसे अच्छा तरीका पेशाब की जांच कराना है। आपने भी देखा होगा कि डॉक्टर्स ज्यादातर बिमारियों में पेशाब कि जांच करना की सलाह देते हैं। दरअसल, आप अपने पेशाब के रंग देखकर जान सकते है, कि आपका स्वास्थ्य कैसा है। अगर पेशाब का रंग नार्मल है तो आप बिल्कुल स्वस्थ्य हैं। लेकिन पेशाब का रंग पीला है तो आपको सावधान हो जाने कि जरुरत है।

 

नजरअंदाज न करें ये छोटी बातें

यूटीआई (यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन) एक ऐसी गंभीर बीमारी है, जिसमें महिलाओं के पेशाब में काफी अधिक बदबू आती हैं। इस बिमारी में महिलाओं को जलन भी होती है। यूटीआई का संक्रमण पेशाब की थैली में होता है। इसलिए ऐसी समस्या में तुरंत डॉक्टर कि सलाह लेनी चाहिए। ये बातें भले ही छोटी-छोटी हैं, लेकिन इन्हें नजरअंदाज करने से आप भयंकर बिमारियों के करीब जा सकते हैं। इसलिए इन छोटी-छोटी बातों को नजरअंदाज न करें।