फेसबुक पर एक बन्दे ने एक रशीद शेयर किया, जिस पर लिखा था ‘कमल का फूल हमारी भूल’, और फिर जो हुआ ..

नई दिल्ली – सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट फेसबुक एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जो लोगों अपनी बात रखने का मौका देती है। प्लेटफॉर्म के मालिक जकरबर्क भी कई बार कह चुके हैं कि वो फेसबुक को ऐसा प्लेटफॉर्म बनाना चाहते हैं जिसपर लोग बिना किसी डर के अपनी बात रख सके। लेकिन आज एक शख्स के सात अजीब वाकया हो गया। फेसबुक यूजर मोहम्मद अनस के मुताबिक उसे ‘कमल का फूल हमारी भूल’ लिखी एक एक रेस्ट्रों की बिल पोस्ट के कारण फेसबुक ने 30 दिनों के लिए सिर्फ ब्लॉक कर दिया है।

‘कमल का फूल हमारी भूल’, वायरल हुई फोटो

दरअसल, बीते 1 जुलाई से नरेंद्र मोदी सरकार ने गुड्स एंड सर्विसेज़ टैक्स (जीएसटी) देश भर में लागू किया है। मोदी सरकार की यह पहल एक बड़े आर्थिक सुधार के लिए है। लेकिन कुछ दिनों से इससे जुड़ी एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इसे गुजरात के व्यापारियों की रसीद बताई जा रही है, जिस पर कमल का फूल, हमारी भूल लिखा हुआ है।

यह रसीद फेसबुक और वॉट्सएप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर खूब वायरल हो रही है। इसकी फोटो लोग फेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर खुब शेयर कर रहे हैं। यह फोटो सबसे पहले अरविंद कुमार नाम के शख्स ने अपलोड किया। वहीं मोहम्मद अनस नाम के शख्स ने भी बिल को फेसबुक पोस्ट पर किया है। लेकिन इन लोगों ने जैसे ही ये फोटो फेसबुक पर पोस्ट किया उसे ब्लाक कर दिया गया।

 एंटी बीजेपी पोस्ट किए तो ब्लाक हुए यूज़र

इसी पोस्ट को मो. अनस नाम के एक यूजर ने अपने अकाउंट से कुछ दिनों पहले अपलोड किया। लेकिन अनस ने एक लगती कर दी। उसने भी यह फोटो अपलोड कर दी और अपने स्टेटस में लिखा – कमल का फूल, हमारी भूल। इसके तुरंत बाद ही उसे फेसबुक ने ब्लाक कर दिया। हालांकि, यह साफ नहीं हो सका है कि ये रसीद वाला फोटो कहां से आया। लेकिन रसीद पर बीजेपी के चुनाव चिन्ह कमल को भूल बताया गया है।

अनस के मुताबिक उसने खुद से कुछ भी पोस्ट नहीं किया बल्कि सिर्फ कैशमैमो शेयर किया है। आपको बता दें कि ये पहली बार नहीं है जब फेसबुक ने अनस का अकाउंट ब्लॉक किया है। पहले भी उसके कई बार फेसबुक ने कम्यूनिटी स्टैंडर्ड का पालन न करने के कारण उसका अकाउंट ब्लॉक करता आया है। इसके बाद से लोग जल्दी जल्दी अपने पोस्ट हटाने लगे हैं। उन्हें अपना अकाउंट ब्लॉक होने का डर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.