हिन्दी समाचार, News in Hindi, हिंदी न्यूज़, ताजा समाचार, राशिफल

महिला से बलात्कार करने के बाद इस ने बनाया एक अजीब सा बहाना

कोई भी इंसान जब अपने जीवन में सफलता प्राप्त करता है, तो वह इनका श्रेय अपने बड़े-बूढों और खुद के अथक परिश्रम को देता है, लेकिन क्या होगा जब वही इंसान कोई घिनौना अपराध कर दें? वो भी कोई छोटा-मोटा नहीं बल्कि बलात्कार जैसा संगीन अपराध और उसके लिए वो अपने देश की परवरिश और संस्कारों को जिम्मेदार ठहराए (Strange Rapist excuses)।

TAXI-2

सोच के आश्चर्य होता है, लेकिन ऐसा हुआ और और करने वाला एक भारतीय सिख ड्राइवर है, जो ऑस्ट्रेलिया में ड्राइवर का काम करता था।

2011 में, सिमरदीप सिंह ने एक 20 वर्षीय युवती को अपनी टैक्सी में बैठाया और उसके पैर सहलाने लगा साथ ही उससे अश्लील सवाल भी पूछने लगा। उसके बाद उसने उस युवती को उसके गंतव्य स्थान पर छोड़ दिया।

TAXI-3

उसके बाद वापसी के समय वो एक पार्क में चला गया जहाँ एक 18 वर्षीय युवती पार्क में पड़ी बेंच पे बैठी थी, को छेड़ने लगा और उसके साथ जबरदस्ती करने लगा।

इसके बाद युवती ने पुलिस से सिमर की शिकायत की और उसके खिलाफ बलात्कार का मुकदमा दर्ज कराया।

सिमरदीप गिरफ़्तारी से बचने के लिए वहां से भारत आ गया, लेकिन मामला बलात्कार का था तो भारत ने सिमर को वापस ऑस्ट्रेलिया भेज दिया।

सिमर ने इसके लिए अपने भारतीय परिवेश और परवरिश को जिम्मेदार ठहराया और बताया कि हमारे यहां महिलाएं ज्यादा ढकें हुए कपड़ें पहनती है।

 

इससे भी अजीब बात यह थी की न्यायाधीश ने इसे सांस्कृतिक परिवर्तन का सदमा मान लिया और मुजरिम को  साढ़े तीन साल की सजा सुना दी और उसे रिहा होते ही भारत भेजने का भी ऐलान किया।

मुजरिम ने इस संगीन अपराध में अपनी परवरिश की आड़ खुद को सिर्फ बचाने के लिए की, जो सफल रही लेकिन आपको बता दें कि बलात्कार, आतंकवाद और हत्या जैसे संगीन जुर्म कोई अपनी परवरिश से या समाज से नहीं सीखता बल्कि ये उसके खुद के अंदर के मानसिक विकार होते हैं।

 

DMCA.com Protection Status