मुख्य समाचार

मोदी के सिर्फ एक वॉर से बिलबिलाता घूम रहा है पाकिस्‍तान, जानिए क्यूँ है पाक की हालत पतली

बड़ी पुरानी कहावत है ‘सौ सुनार की एक लोहार की’। ये कहावत आजकल पाकिस्तान पर सटीक बैठ रही है। पिछले करीब एक महीने से हिजबुल मुजाहिद्दीन के कमांडर बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद लगातार पाकिस्‍तान की हरकतें सामने आ रही हैं। लेकिन, अब उसे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बहुत ही करारा जवाब मिल गया है। मोदी के करारे जवाब से पाकिस्‍तान बिलबिलाया हुआ घूम रहा है। उसे समझ नहीं आ रहा है कि वो क्‍या करे।

शुक्रवार को ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्‍मीर मसले पर बुलाई गई ऑल पार्टी मीटिंग में साफ कर दिया था कि पाकिस्‍तान अधि‍कृत कश्‍मीर यानी पीओके भारत का अभि‍न्न हिस्‍सा है। उन्‍होंने दो टूक कह दिया था कि कश्‍मीर मसला बिना पाक अधिकृत कश्‍मीर के लोगों को शामिल किए हल ही नहीं किया जा सकता। इतना ही नहीं मोदी ने ये भी कहा था कश्‍मीर की वार्ता में पाक अधिकृत कश्‍मीर के उन लोगों को भी श‍ामिल करना होगा जो पीओके छोड़कर दूसरी जगहों पर रह रहे हैं।

 मोदी के इस बयान से जहां एक ओर पाक अधिकृत कश्‍मीर और बलूचिस्‍तान में आजादी की जंग तेज हो गई है। वहीं दूसरी ओर पाकिस्‍तान तिलमिला उठा है। मोदी के बयान के बाद अब तक पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ तो सामने नहीं आए हैं। लेकिन, पाकिस्‍तान के गृहमंत्री चौधरी निसार अली खान ने देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह से पूछा है कि भारत बताए कि वो हमें कौन सा पढ़ाना चाहता है ? साथ ही, खिसआया पाकिस्‍तान अपनी पुरानी बातों को भी दोहरा रहा है।

पाक गृहमंत्री चौधरी निसार ने कहा कि कोई भी पाकिस्तानी कश्मीरियों पर हो रहे जुल्‍मों को लेकर चुप नहीं बैठने वाला है। मोदी के बयान को लेकर निसार अली खान ने बाकायदा एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी। जिसमें उन्‍होंने कहा कि पाकिस्तान कोई पाठ नहीं पढ़ेगा। निसार का कहना था कि ‘काश हिंदुस्‍तान के गृहमंत्री राजनाथ सिंह ये बताते कि वो पाकिस्तान को कौन सा पाठ पढ़ाने की बात कर रहे हैं। अगर मोदी और राजनाथ सिंह ने शांति और भाईचारे के पाठ पढ़ाने की बात कर रहे हैं तो पाकिस्तान ने वार्ता के लिए हमेशा दरवाजे खोले रखे हैं।

अधिक जानें अगले पेज पर :

1 2Next page

Related Articles

Close