शहीद की रोती बेटी को देख DIG ने जो कहा, सुन कर आप की भी आँखे भर जायेगी

नई दिल्ली – 8 साल की एक रोती हुई बच्ची की तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है। यह तस्वीर जम्मू-कश्मीर ASI अब्दुल राशिद की 8 साल की बेटी ज़ोहरा कि हैं, जो अनंतनाग में शहीद हो गए थे। ये वायरल तस्वीर तब खिंची गई थी जब अब्दुल राशिद को श्रद्धांजलि दी जा रही थी। Dig writes letter to martyr daughters zohra.

अनंतनाग आतंकी हमले में शहीद हुए थे ज़ोहरा के पिता

अनंतनाग में हुए आतंकी हमले में शहीद हुए एएसआई अब्‍दुल राशिद की बेटी जोहरा की ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर इसलिए वायरल हो रही हैं, क्योंकि DIG ने ज़ोहरा के नाम एक भावूक लेटर लिखा है। ये तस्‍वीर उस वक्‍त ली गई थी जब वह अपनी पिता की अंतिम यात्रा में रो रही थी। रोती-बिलखती जोहरा की इस तस्‍वीर को देखकर आप भी भावूक हो जाएंगे। गौरतलब है कि अब्‍दुल राशिद को आतंकी हमले में गोली लग गई थी।

अब्‍दुल राशिद को जब गोली लगी वो उस दौरान ड्यूटी पर थे। पिता की मौत कि खबर जब ज़ोहरा को दी गई वो अपने स्कूल में थी। उसने वहीं से रोना शुरु किया। उसके आंसू देखकर लोगों को भी रोना गया। रोती बिलखती ज़ोहरा ने हाल ही में कहा था कि वह अपने पिता को बहुत मिस कर रही है। जोहरा अपने पिता का सपना पूरा करने के लिए डॉक्टर बनना चाहती है। इसी वायरल हो रही तस्‍वीर पर दक्षिणी कश्‍मीर के डीआईजी ने जोहरा को एक भावूक खत लिखा है। इस खत को उन्होंने फेसबुक पोस्‍ट के रुप में शेयर किया है।

 

डीआईजी ने क्या लिखा है?

जोहरा के फोटो और उसकी हालत देखकर दक्षिणी कश्मीर के डीआईजी का दिल पिघल गया और उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर जोहरा को एक खत लिख है। डीआईजी ने लिखा है कि – ‘ज़ोहरा तुम्हारे आंसुओं ने हमारें दिलों को झकझोर कर रख दिया। तुम यह समझने के लिए अभी काफी छोटी हो कि तुम्हारे पापा की शहादत क्यों हुई? ‘तुम्हारे पिता ने जम्मू-कश्मीर के लिए त्याग और साहस से काम करने वाले लोगों में शामिल थे।’

उन्होंने आगे लिखा है कि – ‘हमेशा याद रखना, हम सब एक परिवार के जैसे हैं। तुम्हारे आंसू हमारे दिलों को झुलसा रहे हैं। हम संकल्प करते हैं कि समाज को शांति और सद्भाना का संदेश देंगे। तुम्हारे पापा हमेशा हमारे दिलों में रहेंगे। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।’ डीआईजी द्वारा जोहरा को लिखा गया ये भावूक खत काफी वायरल हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.