मोदी-ट्रंप की दोस्ती का असर, ट्रंप ने पाकिस्तान को जमकर लगाई फटकार कहा पाकिस्तान आतकियों ..

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर देश को संबोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान को आतंकवाद के खिलाफ कड़े कदम उठानें के जरुरत है। यह बात किसी से नहीं छुपी हुई है कि पाकिस्तान ही आतंकियों को शरण देता है। पीएम मोदी और डोनाल्ड ट्रंप की दोस्ती का असर साफ-साफ़ दिखने लगा है। इस वजह से चीन और पाकिस्तान की मुश्किलें बढती ही जा रही हैं।

अफगानिस्तान को दिया है मदद का आश्वासन:

ट्रंप ने अपने भाषण के दौरान जहाँ एक तरफ भारत के साथ रिश्ते मजबूत करने की बात की वहीँ अफगानिस्तान को और मदद का आश्वासन भी दिया। ट्रंप ने अपने संबोधन में पाकिस्तान को स्पष्ट रूप से सन्देश देते हुए कहा कि अब समय आ गया है कि पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ लड़ने की अपनी प्रतिबद्धता को साबित करे। उन्होंने यह भी कहा कि अमेरिकी लोग बिना जीत के ही युद्ध से थक चुके हैं।

ट्रंप ने अफगानिस्तान के बारे में बोलते हुए कहा कि वहाँ से जल्दबाजी में हटने की वजह से शून्य की स्थिति पैदा हो जाएगी, जिसे आतंकवादी तुरंत भरने की कोशिश करेंगे। अफगानिस्तान में हमारी नई रणनीति का मुख्य स्तम्भ समय आधारित दृष्टिकोण बदलकर परिस्थिति आधारित नजरिया अपनाना है। उन्होंने कहा कि हम भारत के साथ गहरे कुटनीतिक सम्बन्ध बनाने के साथ-साथ अफगानिस्तान की भी मदद करेंगे।

पाकिस्तान करेगा हमारी मदद तो मिलेगा बहुत कुछ:

भारत ने अमेरिका के साथ व्यापार करके अरबों डॉलर बनाये हैं। अब हम भारत से चाहते हैं कि वह अफगानिस्तान के मामले में हमारी मदद करें। ट्रंप ने पाकिस्तान को खरी-खोटी सुनाते हुए कहा कि आतंकवादी संगठनों को पाकिस्तान द्वारा मुहैया कराई जा रही पनाहगाहों को लेकर हम शांत नहीं रह सकते हैं। अगर हमारे साथ मिलकर पाकिस्तान, अफगानिस्तान की मदद करता है तो उसे बहुत कुछ मिल सकता है।

आतंकियों के लिए स्वर्ग बना हुआ है पाकिस्तान:

अगर वह पहले की तरह ही आतंकवादियों को शरण देता है और उनकी मदद करता है तो उसे बहुत कुछ खोना पड़ सकता है। ट्रंप ने कहा, “जहाँ एक तरफ पाकिस्तानी नागरिक आतंकवाद का दंश झेल रहे हैं हैं वही पाकिस्तान आतंकवादियों के लिए स्वर्ग बना हुआ है।“ अमेरिका सरकार पाकिस्तान को पहले ही दुनिया भर में फैलने वाले आतंकवाद का जिम्मेदार ठहरा चुकी है। अमेरिका ने कई बार पाकिस्तान को आतंकवाद पर दोगली नीति ख़त्म करने की चेतवनी भी दी है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.