आज बन रहा है शुभ संयोग, अपने पूर्व जन्मों में किये गए पापों को इस तरह से काटें

आज का दिन हिन्दू धर्म के लिए बहुत ही ख़ास और शुभ दिन है। आज के दिन अन्नदा और अजा एकादशी के साथ-साथ वत्स द्वादशी का शुभ योग बन रहा है। आज के दिन देवी लक्ष्मी और भगवान श्री हरि विष्णु के पूजन का विधान है। शुक्रवार माँ लक्ष्मी का दिन होता है, इसलिए आज के दिन शुक्रवार पड़ने से इस दिन का महत्व कई गुना बढ़ जाता है।

इसी व्रत की मदद से पाया था पाना खोया हुआ राज-पाठ:

आज ही के दिन सदियों पहले राजा हरिश्चंद्र ने इसी व्रत का पालन करके अपना समस्त खोया हुआ राज-पाठ पाया था। पौराणिक कथानुसार जो भी व्यक्ति इस एकादशी का व्रत एवं पूजन पूरी श्रद्धा से करता है, उसके पूर्व जन्मों के सभी पाप कट जाते हैं। इस व्रत का पालन करने वाले व्यक्ति को अश्वमेघ यज्ञ के समान पुण्य की प्राप्ति होती है, केवल यही नहीं जीवन में हर तरह के सुख-समृद्धि की भी प्राप्ति होती है।

आज के दिन करें ये काम:

*- आज के दिन गाय और बछड़े की साथ-साथ पूजा करें और उसके बाद दोनों को गुड़ और घास खिलाएँ।

*- आज के दिन पीपल के पेड़ को जल अर्पित करने से जीवन के सभी कर्जों से मुक्ति मिल जाती है। व्यक्ति को जीवन में किसी तरह की आर्थिक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है।

*- आज के दिन भगवान विष्णु के समक्ष शुद्ध देसी घी का दीपक जलाएं।

*- एकादशी की पूजा करते समय भगवान विष्णु और धन की देवी माँ लक्ष्मी को गुलाब के फूलों से बनी हुई माला चढ़ाएँ।

*- आज के दिन भगवद्गीता का पाठ करें।

*- एकादशी के व्रत के दिन जो भी व्यक्ति रात्रि जागरण करता है, उसे अक्षय फल की प्राप्ति होती है।

*- एकदशी व्रत के बाद द्वादशी के दिन बैंगन के सेवन से बचना चाहिए।

*- एकादशी के दिन गाय और उसके बछड़े की पूजा की जाती है इसलिए आज के दिन गाय के दूध या इससे बने किसी की पदार्थ के सेवन से बचना चाहिए।

*- एकादशी व्रत के दिन सुहागन महिलाओं को 16 श्रृंगार की चीजें दें और साथ में उन्हें फल भी भेंट करें।

*- जीवन में बहुत सारे धन की प्राप्ति के लिए आज के दिन दक्षिणावर्ती शंख की पूजा करें।

*- आज के दिन तुलसी की माला से “ॐ नामो भगवते वासुदेवाय” का जाप करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.