खूनी खेल ब्लू व्हेल का टास्क पूरा करने के लिए करने जा रहा था बच्चा, अंजाम जानकर उड़ जायेंगे होश

नई दिल्ली: समय-समय पर समाज में कुछ ऐसी चीजे आतीं हैं, जिसकी दीवानगी किसी एक पर नहीं बल्कि समाज के एक बड़े हिस्से पर देखने को मिलती है। उदाहरण के रूप में आप देख सकते हैं आज से कुछ समय पहले पोकीमोन गो नाम का एक गेम आया था। लोगों में इस गेम को लेकर ऐसी दीवानगी थी कि लोगों ने अपना काम-धाम भी छोड़ दिया था।

पुलिस को निकालनी पड़ी मुहीम:

इस गेम की दीवानगी इतनी ज्यादा थी कि आप सोच भी नहीं सकते। लोग खेलते-खेलते चलते थे। इस वजह से कई लोग हादसे का शिकार भी हुए थे। फाइनली पुलिस को इस गेम को बंद करवाने की मुहीम निकालनी पड़ी। जिसे भी इस गेम को खेलते हुए देखा जायेगा, उसे सजा होगी। तब जाकर कहीं इस गेम की वजह से हादसे होने बंद हुए।

भारत में तेजी से चर्चित हो रहा ब्लू व्हेल गेम:

इस गेम की दीवानगी भारत के लोगों में भी देखी जा सकती थी। आजकल भारत में एक ऐसा ही एप्प धूम मचाये हुए है, जिसका नाम है सराहाह। इस समय देश का एक बड़ा तबका इस एप्प की दीवानगी से घिरा हुआ है। वही युवाओं का एक बड़ा हिस्सा भारत में तेजी से चर्चित हो रहे ब्लू व्हेल गेम का दीवाना है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस गेम को खूनी खेल के नाम से भी जाना जा रहा है।

गेम का टास्क पूरा करने के लिए भाग रहा था घर से:

पिछले कई दिनों से इस गेम के जाल में फंसकर कई बच्चों ने आत्महत्या कर ली है। कईयों ने आत्महत्या की कोशिश भी की लेकिन उन्हें समय रहते बचा लिया गया। ऐसे ही महाराष्ट्र के सोलापुर जिले का रहने वाला एक 14 साल का बच्चा इस गेम के टास्क को पूरा करने के लिए घर छोड़कर जा रहा था। बच्चा घर से पुणे जा रहा था। रवाना होने से पहले उसनें एक पत्र घरवालों के लिए लिखा था, जिसे पढ़ते ही उनके होश उड़ गए।

लगा रहा था स्कूल की तीसरी मंजिल से छलांग:

बच्चे ने पत्र में लिखा था कि स्कूल बदलने की वजह से घर छोड़कर जा रहा है। उसे ढूँढने की कोशिश मत करना। अगर किसी ने ऐसा किया तो मैं कुछ भी कर लूँगा। परिजनों ने इसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी और समय रहते ही बच्चे को ढूंढ लिया गया। इससे कुछ दिन पहले मध्यप्रदेश के इंदौर शहर का बच्चा इस जानलेवा गेम का शिकार होते-होते बचा। वह इस गेम का टास्क पूरा करने के लिए स्कूल की तीसरी मंजिल से छलांग लगाने जा रहा था। हालांकि उसे सुरक्षित बचा लिया गया।