समाचार

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या, भगवंत मान सरकार ने एक दिन पहले वापस ली थी सुरक्षा

पंजाब में बड़ी आपराधिक घटना हुई है। यहां मशहूर पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला पर मानसा के जवाहरके गांव के पास गोली मारी गई। मूसेवाला को गंभीर हालत में मानसा के अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उनकी मौत हो गई। हमले में दो अन्य लोग भी घायल हुए हैं। बताया जा रहा है कि मूसेवाला को गैंगस्टरों से धमकियां मिली थी। इसके बावजूद पंजाब की आम आदमी पार्टी की सरकार ने एक दिन पहले ही मूसेवाला की सुरक्षा वापस ली थी।

शनिवार को पंजाब की आम आदमी पार्टी सरकार ने मूसेवाला समेत कुल 424 VIP लोगों की सुरक्षा पर कैची चलाई थी। इस लिस्ट में डेरामुखी सहित कई सेवानिवृत्त अधिकारी भी शामिल हैं। वर्तमान और पूर्व विधायकों की सुरक्षा भी वापस ली गई है। इनमें SAD के वरिष्ठ नेता चरण जीत सिंह ढिल्लों, बाबा लाखा सिंह, सतगुरु उधय सिंह, संत तरमिंदर सिंह भी शामिल हैं।

इसके अलावा विधायकों में अकाली नेता गनीव कौर मजीठिया, कांग्रेस नेता परगत सिंह, आप विधायक मदन लाल बग्गा का सुरक्षा कवर भी वापस ले लिया गया है। बताया जा रहा है कि सरकार ने पहले एक रिव्यू मीटिंग की थी, उसके बाद इन लोगों की सुरक्षा वापस लेने का फैसला हुआ था।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ने अपने बयान में साफ कहा है कि ये आदेश सिर्फ कुछ समय के लिए लागू किया गया है। राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए अतिरिक्त जवानों की जरूरत है, इसी वजह से रिव्यू मीटिंग के बाद 424 लोगों की सुरक्षा वापस ली गई है। अब उन जवानों को राज्य के अलग-अलग इलाकों में तैनात किया जाएगा।

पंजाब की भगवंत मान सरकार ने शनिवार को ही सिद्धू मूसेवाला की सुरक्षा को हटाया था। पहले गायक के पास करीब 10 गनमैन थे लेकिन मान सरकार ने इनकी संख्या कम कर दी थी। बताया जा रहा है कि काले रंग की गाड़ी में सवार दो हत्यारों ने वारदात को अंजाम दिया है। मूसेवाला ने कांग्रेस की टिकट पर इसी साल मानसा से विधानसभा का चुनाव लड़ा था।


सिद्धू ने कांग्रेस में कराया था शामिल

हाल ही भगवंत मान सरकार ने अपने स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर विजय सिंगला को भ्रष्टाचार से जुड़े मामले में बर्खास्त किया था। इन्हीं स्वास्थ्य मंत्री ने मानसा विधानसभा सीट से सिद्धू मूसेवाला को हराया था। नवजोत सिंह सिद्दू ने चुनाव से पहले मूसेवाला को कांग्रेस में शामिल कराया था।

Back to top button