समाचार

‘हाईकोर्ट जजों का इनरवियर भगवा है’: भड़काऊ नारे पर एक्शन से कोर्ट पर तिलमिलाया PFI नेता

केरल में मुस्लिम कट्टरवाद लगातार पैर पसार रहा है। लेकिन वहां की सरकारें इस पर लगाम लगाने में कामयाब नहीं रही हैं। जब हाईकोर्ट ने ऐसे कट्टरपंथियों पर लगाम लगाई तो ये कट्टरपंथी भड़क गए और उल्टे हाईकोर्ट जजों पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहे हैं। PFI के एक नेता ने तो यहां तक कह दिया कि ‘इन जजों का इनरवियर भगवा है’।

जजों के खिलाफ विवादित बयान

केरल के पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के नेता याहिया तंगल ने शनिवार को केरल हाईकोर्ट के जजों के खिलाफ विवादित बयान दिया है। एक विवादास्पद टिप्पणी करते हुए तंगल ने कहा कि “उनका इनरवियर भगवा है”। दरअसल अलाप्पुझा में एक रैली के दौरान कथित रूप से भड़काऊ नारे लगाने के मामले में हाईकोर्ट ने पुलिस को पीएफआई कार्यकर्ताओं के खिलाफ उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया था। इसी को लेकर पीएफआई के नेता भड़के हुए हैं।

तंगल ने कोर्ट पर कसा तंज

अलाप्पुझा में एक रैली के दौरान तंगल ने कहा कि अदालतें अब आसानी से चौंक रही हैं। तंगल ने कहा कि हमारी अलाप्पुझा रैली के नारे सुनकर हाईकोर्ट के जज चौंक रहे हैं। क्या आप इसका कारण जानते हैं? कारण यह है कि उनका आंतरिक वस्त्र भगवा है। चूंकि यह भगवा है इसलिये वे बहुत तेजी से गर्म हो जाएंगे। आपको जलन महसूस होगी और यह आपको परेशान करेगा।”

हिंदुओं और ईसाइयों को धमकी

अलाप्पुझा में एक पीएफआई रैली का आयोजन किया गया था। इस रैली में एक लड़का नारा लगाते हुए देखा गया था कि “हिंदुओं को अपने अंतिम संस्कार के लिए चावल रखना चाहिए और ईसाइयों को अपने अंतिम संस्कार के लिए धूप रखनी चाहिए। अगर आप लोग शालीनता से रहते हैं, तो आप हमारी भूमि में रह सकते हैं और अगर आप शालीनता से नहीं जीते हैं, तो हम आजादी जानते हैं। शालीनता से… शालीनता से… शालीनता से जिएं।”

आरएसएस लड़ाई जारी रहेगी: सीपी मुहम्मद बशीर

पीएफआई के केरल प्रदेश अध्यक्ष सीपी मुहम्मद बशीर ने मंगलवार को कहा था कि यह नारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी आरएसएस आतंकवाद से लड़ना और उसका विरोध करना जारी रखेगी। दरअसल हिंदू और ईसाई आबादी के लिए इस प्रकार की टिप्पणी एक सीधा खतरा था। पीएफआई ने चेतावनी दी थी कि अगर वे लाइन पर नहीं आते हैं तो मौत की सजा दी जाती है।

नारेबाजी पर हाईकोर्ट ने सख्त

केरल पुलिस ने शुक्रवार को पीएफआई की नारेबाजी मामले में 18 और लोगों को गिरफ्तार किया है। केरल हाईकोर्ट ने पुलिस को अलाप्पुझा में 21 मई की रैली को लेकर कथित भड़काऊ नारेबाजी के संबंध में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के खिलाफ उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

 

Back to top button