समाचार

महिला के लिए 10 साल की शादी पर भारी पड़े 10 दिन, जिस लड़की को शरण दिया वही पति के साथ भाग गई

कहते हैं ने कभी-कभी हवन करने से हाथ जल जाते हैं यानि अच्छा काम करने चलो लेकिन उसका नतीजा बुरा हो जाय। कुछ ऐसा ही हुआ ब्रिटेन की 28 साल की लोर्ना के साथ। लोर्ना और उसके 29 साल के पति टोनी ने रूस-यूक्रेन युद्ध में अपना देश छोड़ दर-दर भटक रही 22 साल की यूक्रेनी लड़की सोफिया को अपने घर में शरण दी, उन्होंने इंसानियत दिखाई, दया की। लेकिन 10 दिन में ही कुछ ऐसा हुआ की पूरा परिवार बिखर गया। क्या है पूरा मामला आपको आगे बताते हैं।

रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान यूक्रेन की 22 साल की सोफिया कार्कादिम खुद की जान बचाने के लिए यूके पहुंच थी, जहां उसकी मुलाकात सुरक्षा गार्ड टोनी गार्नेट से हो गई। द सन की रिपोर्ट के मुताबिक दो बच्चों का पिता टोनी और उसकी पत्नी लोर्ना ने सोफिया को अपने घर में रहने के लिए जगह दी थी, लेकिन 10 दिनों बाद टोनी और सोफिया एकसाथ घर छोड़कर चले गए। दरअसल 29 साल के सिक्योरिटी गार्ड टोनी गार्नेट का दिल सोफिया कार्कादिम पर आ गया, जिसके बाद दोनों ने साथ निभाने की कसम खाई। टोनी पहले से शादीशुदा है, पत्नी लोर्ना से  उसके दो बच्चें भी हैं।

प्यार के आगे मजबूर थे दोनो

यूके के वेस्ट यॉर्कशायर के ब्रैडफोर्ड में रहने वाले टोनी ने द सन को बताया कि हम अपनी बाकी की लाइफ एक दूसरे साथ बिताने का प्लान कर रहे हैं। इतना ही नहीं 22 साल की सोफिया ने भी कबूल किया कि जैसे ही उसने टोनी को देखा, बस उसकी दीवानी हो गई थी। उसने कहा कि यह प्यार बहुत जल्दी हो गया है लेकिन यह हमारी प्रेम कहानी है। मुझे पता है कि लोग मेरे बारे में बुरा सोचेंगे लेकिन ऐसा होता है। मैं देख सकती थी कि टोनी कितना दुखी था।

टोनी ने द सन से कहा, “मैंने सोफिया के साथ एक ऐसा रिलेशन बनाया है, जैसे मुझे पहले कभी महसूस नहीं हुआ। हम अपनी बाकी की लाइफ भी साथ गुजरना चाहते हैं।” टोनी ने आगे कहा, “मुझे पता है कि लोग सोचेंगे कि यह इतनी तेजी से हुआ है, लेकिन सोफिया और मुझे पता है कि यह सही है।”

पत्नी पर टूटा दुखों का पहाड़

इधर, 29 साल के बच्चों के पिता टोनी की पत्नी लोर्ना अपने पति के कदम से काफी दुखी है। लोर्ना और टोनी ने सोफिया को अपने घर में रखा था, जिसके ठीक दस दिन बाद कुछ ऐसा हुआ, जिसको लेकर खुद लोर्ना भी आहत है। दरअसल, रूस के यूक्रेन पर आक्रमण तेज होने के बाद टोनी ने सरकारी रिफ्यूजिंग होमिंग योजना पर साइन किया था, लेकिन उन्होंने पाया कि आवेदन करने का प्रोसेस बहुत धीमा था, इसलिए उन्होंने मदद की पेशकश करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया।

सुरक्षा गार्ड टोनी जो एनएचएस ड्रॉपइन सेंटर में काम करते हैं, उसकी सोफिया से फेसबुक के जरिए मुलाकात हुई और फिर टोनी ने उसे एक शरणार्थी के तौर पर अपने घर में रखने की बात कही। आपको बता दें कि आईटी मैनेजर सोफिया पहले बर्लिन पहुंची, जहां उसने यूके का वीजा हासिल करने के लिए हफ्तों तक इंतजार किया। और अंत में 4 मई को मैनचेस्टर के लिए रवाना हुई और वेस्ट यॉर्क के ब्रैडफोर्ड में टोनी और लोर्ना के साथ उनके घर रहने के लिए चली गई।

लेकिन शायद किसी को नहीं पता था कि ये मुलाकात एक प्यार में बदल जाएगी। धीरे-धीरे सोफिया और टोनी के बीच बातचीत बढ़ती गई और दोनों को एक दूसरे के लिए अपने प्यार का अहसास हुआ। जब लोर्ना ने यह सब देखा तो चीजें बिगड़ना शुरू हो गई। टोनी ने बताया कि यह बात पिछले शनिवार की है, जब लोर्ना सोफिया पर बिगड़ गई और काफी सख्त शब्दों का इस्तेमाल किया, जिसके बाद सोफिया के आंसू आ गए।

टोनी के मुताबिक उसने लोर्ना से कहा, ‘अगर वह जा रही है, तो मैं भी जा रहा हूं’। मुझे पता था कि मैं उसे नहीं छोड़ सकता था। हम दोनों ने अपना बैग पैक किया और एक साथ मम्मी और पापा के घर चले गए।’ वहीं लोर्ना के एक दोस्त ने बताया कि वह पूरी तरह से तबाह हो गई है। वह दस साल तक टोनी के साथ रही और दस दिनों में उसका परिवार बिखर गया।

Back to top button