समाचार

‘सिद्धू ने पटियाला जेल में कुछ नहीं खाया’, वकील का दावा, कोर्ट ने जेल प्रशासन से मांगा जवाब

सिद्धू को 1 साल की बामशक्कत कैद की सजा हुई है

नवजोत सिंह सिद्धू को 1 साल की बामशक्कत कैद की सजा हुई है। सिद्धू इस समय पटियाला की सेंट्रल जेल में कैद हैं। करीब 34 साल तक जेल से बचते रहे सिद्धू को आखिर अंतिम न्यायालय में की अंतिम अर्जी पर राहत नहीं मिली और उन्हें जेल जाना पड़ा। जेल में पहुंचने के बाद खबर है कि वो भोजन ग्रहण नहीं कर रहे हैं। सिद्धू के वकील ने दावा किया है कि सिद्धू ने कुछ नहीं खाया है। वकील के मुताबिक नवजोत सिंह सिद्धू ने जेल प्रशासन को रात का भोजन करने से साफ मना कर दिया था।

सिद्धू के वकील एचपीएस वर्मा ने बताया कि सिद्धू को गेंहू से एलर्जी है। इसकी वजह से वे जेल का खाना नहीं खा सकते। उन्होंने सिद्धू की सेहत का हवाला देकर कोर्ट से जेल मैनुअल के मुताबिक खाना उपलब्ध कराने की मांग की थी। सिद्धू के वकील की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए पटियाला सेशन कोर्ट ने जेल प्रशासन से जवाब मांगा था।

सिद्धू को दी गई थी दाल-रोटी

सिद्धू के वकील ने कहा है कि पूरे दिन कोर्ट में जेल प्रशासन की ओर से कोई जवाब आने का इंतजार करता रहा लेकिन ऐसा नहीं हुआ। सिद्धू जेल में बिना कुछ खाए-पीये ही हैं। गौरतलब है कि सिद्धू को 20 मई की शाम 7.15 बजे जेल मैनुअल के मुताबिक दाल-रोटी दी गई थी। हालांकि, कहा ये भी गया था. कि सिद्धू ने सेहत का हवाला देते हुए रोटी का सेवन करने से इनकार कर दिया और सिर्फ सलाद और फल ही लिए।

कैदी नंबर-241383 हैं सिद्धू

नवजोत सिंह सिद्धू को पटियाला जेल में कैदी नंबर 241383 अलॉट किया गया है। उन्हें जेल की बैरक नंबर 10 में हत्या के मामलों में सजा काट रहे 8 कैदियों के के साथ रखा गया है। सिद्धू को पटियाला जेल में एक कुर्सी, मेज, दो पगड़ी, एक अलमारी, एक कंबल, एक बेड, तीन अंडरवियर और बनियान, दो तौलिया, एक मच्छरदानी, एक. एक कॉपी-पेन दिए गए हैं।

क्रिकेट से कॉमेडी शो फिर नेता बने नवजोत सिंह सिद्धू को जेल में एक जोड़ी जूते, दो चादर, चार कुर्ते पजामे भी दिए गए हैं।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से 34 साल पुराने मामले में एक साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाए जाने के बाद सिद्धू को जेल जाना पड़ा। सिद्धू की ओर से सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन भी दाखिल की गई थी लेकिन सर्वोच्च न्यायालय से कोई राहत नहीं मिली। सिद्धू ने इसके बाद पटियाला कोर्ट पहुंचकर सरेंडर कर दिया था।

Back to top button