समाचार

अच्छी-भली डॉक्टर दुल्हन को क्या हो गया, डोली उठने से एक दिन पहले उठ गई अर्थी, सदमे में दूल्हा

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा से बेहद दुखद खबर सामने आई है। यहां शादी एक दिन पहले डॉक्टर दुल्हन की अचानक मौत हो गई है। दुल्हन की मौत से उसके घर वाले तो दुखी हैं तो लड़के वालों को भी तगड़ा झटका लगा है। क्या हा पूरा मामला आपको बताते हैं।

ढोकला खाने से मौत!

छिंदवाड़ा में चौंकाने वाला वाकया सामने आया है। यहां दुल्हन बनने जा रही डॉक्टर की शादी से एक दिन पहले ढोकला खाने से मौत हो गई। गुरुवार सुबह जब वह नाश्ता कर रही थी तो अचानक उसे ठसका लगा और खांसते-खांसते उसका बुरा हाल हो गया। परिजनों ने उसे पानी पिलाया, तो उसकी हालत पहले से ज्यादा खराब हो गई। घबराकर परिजन उसे अस्पताल तो ले गए, लेकिन उसकी जान नहीं बचाई जा सकी। इस घटना से पूरे इलाके में मातम छा गया है।

पुलिस ने बताया कि घटना पश्चिम बुधवारी बाजार में घटी। यहां रहने वाले प्रमोद महादेवराव काले की बेटी मेघा काले की शादी थी। 20 मई को शहनाई लॉन में शादी की रस्में होनी थीं। उसकी बारात पुणे से आ रही थी। गुरुवार सुबह घर का माहौल पूरी तरह खुशनुमा था। रिश्तेदार रस्में निभाने में लगे हुए थे। इस बीच नाश्ते के लिए मेघा ने ढोकला उठाया, क्योंकि उसे ये बहुत पसंद था। लेकिन, जैसे ही उसने इसे खाया तो वह आहार नली में फंस गया। इससे मेघा को ठसका लगा और वह जोर-जोर खांसने लगी।

खांसी से हालत खराब होने पर परिजन उसे लेकर अस्पताल भागे। यहां डॉक्टरों ने उसकी जांच की। उस दौरान उसका बीपी लो था। इस पर डॉक्टरों ने युवती के परिजनों से उसे ड्रीप लगाने के बारे में पूछा तो उन्होंने मना कर दिया। इसके बाद परिजन उसे अस्पताल से बाहर ले गए। वे जैसे ही यहां से निकले तो युवती की तबीयत फिर बिगड़ गई और उसकी जान चली गई।

पुलिस के पास पहुंचा मामला

बताया जाता है कि युवती के पिता ने बेटी का पोस्टमॉर्टम न करने के लिए लिखित में आवेदन दिया। लड़की के मामा ने पोस्टमॉर्टम की बात कही और जिला अस्पताल ले गए। परिजनों के मुताबिक, लड़की की कोई मेडिकल हिस्ट्री नहीं थी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर नाश्ते के सैंपल ले लिए हैं। मामले की जांच जारी है.

वर पक्ष सदमे में

बताया जाता है कि दुल्हा और उसके परिजन पूना से नागपुर पहुंच चुके थे। उन्हें तुरंत इसकी जानकारी दी गई। ये सुनते ही उनके होश उड़ गए। परिवार ने जैसे-तैसे खुद को संभाला और नागपुर से ही पूना वापस लौट गए।

Back to top button