समाचार

दलित की बारात पर मस्जिद के सामने पत्थरबाजी, दूल्हे को भी पीटा, आरोपियों के घर चला बुलडोजर

मध्य प्रदेश में मामा का बुल्डोजर अपनी रफ्तार से चल रहा है। जहां पता चलता है कि कोई अपराधी अपनी ऐंठ में कुछ गलत कर रहा है तो ये बुल्डोजर तुरंत पहुंच जाता है। राजगढ़ में दलित दूल्हे को घोड़ी पर बैठने और मस्जिद के सामने डीजे बजाने को लेकर उपद्रवियों द्वारा किए गए हमले के मामले में प्रशासन ने ऐसी कार्रवाई की है कि दोबारा ऐसी हरकत करने से पहले ऐसे लोग कई बार सोचेंगें।

बारात पर पत्थरबाजी के मामले में पुलिस ने 8 लोगों को चिन्हित कर केस दर्ज किया था। गुरुवार (19 मई 2022) की सुबह से ही प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए आरोपितों के घरों को जमीदोज कर दिया।

दिग्विजय फिर बुरा मान गए

अब इस मामले में कॉन्ग्रेस ने तुष्टिकरण की राजनीति भी शुरू कर दी है। इसकी शुरुआत कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने की है। उन्होंने आरोपितों को निर्दोष बताते हुए कहा कि निर्दोषों के घरों तोड़ना निंदनीय है। उन्होंने कहा कि आरोपित गिरफ्तार तो हो गए हैं, ऐसे में निर्दोषों के घरों पर ये कार्रवाई सही नहीं है।

बारातियों से मारपीट, दूल्हे को भी पीटा

गौरतलब है कि राजगढ़ जिले के जीरापुर में मंगलवार (17 मई 2022) को एक दलित के घर बारात आई थई। इस बारात में डीजे बज रहा था और दूल्हा घोड़ी पर बैठकर आ रहा है। बारात जैसे ही माता जी मोहल्ले में मस्जिद के सामने से निकली, कुछ मुस्लिम युवकों ने बारातियों पर पथराव शुरू कर दिया। इस दौरान बैंड और ढोल बजाने पर बारातियों के साथ-साथ दूल्हे से भी जमकर मारपीट की गई।

पीड़ित के पक्ष के अंकित ने बताया कि उसकी चचेरी बहन अंजू की बारात सुसनेर के सुरेश चौहान के घर से आई थी। वे सब बारात का स्वागत करने के लिए गेट पर खड़े थे। बारात जैसे ही मस्जिद के पास पहुँची, मुस्लिमों ने बैंड और ढोल बंद करवा दिए और कहा कि इस गांव में मस्जिद के सामने बैंड बाजे बजाने की मनाही है।


इसके बाद बारात आगे बढ़ी और शीतला माता मंदिर के पास पहुँची और फिर बैंड और ढोल बजने लगे और बारात में शामिल महिला-पुरुष नाचने लगे। तभी मुस्लिम समुदाय के 20-25 लोगों ने हंगामा करते हुए ढोल वाले की जमकर पिटाई कर दी। उन लोगों ने बरातियों पर पथराव भी किया। मामले में पुलिस ने फरहान, जुनैद, सोहैल, साबिर, अनस कसाई सहित सात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

Back to top button