समाचार

‘कल्पना से बहुत अधिक मिला’, सर्वे के दौरान ज्ञानवापी मस्जिद में गए हिंदू पक्षकार का बड़ा बयान

क्या वास्तव में ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर ही बाबा विश्वनाथ का अविनाशी शिवलिंग है, क्या इसीलिए काशी विश्वनाथ मंदिर में स्थित नंदी की मूर्ति का मुंह वर्तमान पूजित शिवलिंग के विपरीत ज्ञानवापी मस्जिद की तरफ है। क्या वास्तव में ज्ञानवापी मस्जिद में ही मां श्रृंगार गौरी का विग्रह है, क्या ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर हिंदू मंदिर के कई चिन्ह हैं।

ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि वाराणसी की एक कोर्ट के आदेश पर जब ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे शुरू और तो सर्वे के दौरान अंदर गए लोगों को ने जो इशारा किया है वो बहुत कुछ बयां कर रहा है। हालांकि इन लोगों ने कोर्ट में मामला होने की वजह से खुलकर तो कुछ नहीं बोला लेकिन संकेत में बहुत कुछ बता दिया।

4 कमरे का सर्वे हुआ

श्रृंगार गौरी मामले में गहमागहमी के बीच ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे की कार्यवाही हुई। 14 मई को मस्जिद के तहखाने के चार कमरों और पश्चिमी दीवार के सर्वे हुआ। सर्वे के बाद बाहर निकले विश्व वैदिक सनातन संघ के प्रमुख जितेंद्र सिंह बिसेन ने कहा कि वहां कल्पना से बहुत कुछ ज्यादा है।

कल्पना से काफी अधिक मिला

ज्ञानवापी सर्वे के दौरान क्या मिला, इस सवाल पर जितेंद्र सिंह बिसेन ने कहा कि मेरी नहीं, हम सबकी कल्पना से भी अधिक बहुत कुछ है, हजार गुना अधिक है। उन्होंने कहा कि कल के सर्वे के लिए भी बहुत कुछ है। बिसेन ने कहा कि कुछ ताले खोले गए, कुछ ताले तोड़ने पड़े। सर्वे की रिपोर्ट भी सबके सामने आएगी।

उन्होंने कहा कि न्यायालय के निर्देश के मुताबिक सर्वे हो रहे है। दोनों ही पक्षों ने अपनी-अपनी बातें रखीं। विश्व वैदिक सनातन संघ के प्रमुख जितेंद्र सिंह बिसेन ने कहा कि हम सभी बातें मीडिया में नहीं बता सकते। दोनों पक्षों की सहमति से सर्वे हुआ। वकीलों ने भी कहा कि सर्वे में कोई व्यवधान नहीं आया।

शांतिपूर्वक सर्वे हुआ

सर्वे के बाद मस्जिद परिसर से बाहर निकले वकीलों ने कहा कि करीब चार घंटे तक ये कार्यवाही चली। वादी-प्रतिवादी और पुलिस-प्रशासन, सभी पक्ष सहयोग कर रहे हैं। शांतिपूर्ण तरीके से सर्वे चल रहा है। वकीलों ने कहा कि सर्वे की रिपोर्ट अत्यंत गोपनीय है। न्यायालय का आदेश है कि जो कोई भी कार्यवाही को लेकर बाहर कुछ लीक करेगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

वकीलों ने ये भी कहा कि जहां-जहां का सर्वे करना था, वहां-वहां किया गया। वकीलों ने ये भी कहा कि जहां-जहां का सर्वे करना था, वहां-वहां किया गया। वकीलों ने ये भी कहा कि सर्वे की कार्यवाही कल यानी 15 मई को भी जारी रहेगी। सर्वे की कार्यवाही कब तक चलेगी, इस सवाल पर वकीलों ने कहा कि इसे लेकर हम अभी कुछ नहीं कह पाएंगे। इस संबंध में एडवोकेट कमिश्नर ही बता पाएंगे।

जितेंद्र सिंह बिसेन से लेकर वकीलों तक, सभी ने ये कहा कि कोर्ट का मामला है। इसमें क्या मिला, इस संबंध में कोई जानकारी नहीं देनी है। कोर्ट ने सर्वे की रिपोर्ट को अत्यंत गोपनीय रखने का निर्देश दिया है। लेकिन जितेंद्र सिंह बिसेन के इस दावे के बाद कि कल्पना से ज्यादा है, ये माना जा रहा है कि हिंदू पक्ष ने कोर्ट में जो दावा किया था, उसके पक्ष में सर्वे के दौरान कुछ मिला होगा।

ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे करीब चार घंटे तक चला। सुबह 8 बजे से शुरू हुआ सर्वे करीब 12 बजे तक चला। मस्जिद के तहखाने में चार कमरे हैं जिनमें से एक पर हिंदू पक्ष का कब्जा है और तीन कमरे मुस्लिम पक्ष के पास हैं। इन तहखानों में बैटरी के माध्यम से उजाला कर एडवोकेट कमिश्नर ने सर्वे की कार्यवाही को अंजाम दिया।

Back to top button