समाचार

यूपी के मदरसों में रोजाना राष्ट्रगान अनिवार्य किया गया, योगी सरकार ने लिया एक और बड़ा फैसला

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के दोबारा मुख्यमंत्री बनने के बाद से प्रदेश सरकार बड़े-बड़े ऐक्शन लेने में बिल्कुल भी नहीं हिचक रही है। इसी क्रम में योगी सरकार की ओर से मदरसों को लेकर एक बड़ा फैसला लिया गया है। आदेश के मुताबिक, अब मदरसों में पढ़ाई शुरू होने से पहले राष्ट्रगान गाना अनिवार्य होगा। इसे लेकर आदेश भी जारी कर दिया गया है। गुरुवार से ही सभी मदरसों में राष्ट्रगान का गायन भी शुरू कर दिया गया है।

ये आदेश जारी

आदेश में बताया गया है कि उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद की बैठक में प्रत्येक मान्यता प्राप्त, वित्तीय सहायता प्राप्त, गैर वित्तीय सहायता प्राप्त मदरसों में आगामी शिक्षण सत्र से कक्षाएं प्रारंभ होने से पहले अन्य दुआओं के साथ अनिवार्यतः राष्ट्रगान का गायन किया जाएगा। इसमें शिक्षकों और छात्र-छात्राएं सब शामिल होंगे। बैठक में साथ ही यह भी बताया गया है कि माहे-रमजान के कारण मदरसों में घोषित वार्षिक अवकाश सूची में 30 मार्च 2022 से 11 मई 2022 तक अवकाश है। इस तरह 12 मई 2022 से नियमित कक्षाएं प्रारंभ होंगी।

वहीं आदेश में नियमित कक्षाओं के प्रारंभ के समय परिषद के उपर्युक्त निर्णय का अनुपालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए हैं। यूपी मदरसा शिक्षा परिषद के रजिस्ट्रार की ओर से सभी जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों को पत्र लिखकर निर्देश दिए गए हैं।

मुस्लिम समाज को आपत्ति

योगी सरकार के इस फैसले पर मुस्लिम समाज ने आपत्ति जताई है। कुछ मौलानाओं का कहना है कि जब मदरसों में 15 अगस्त और 26 जनवरी को राष्ट्रगान गाया जाता है तो उसे रोजाना अनिवार्य करने की क्या जरूरत है। वहीं सरकार ने इस फैसले को मुस्लिम समाज के हित में बताया है।

यूपी मदरसा बोर्ड (UP Madrasa Board) के चेयरमैन डॉ. इफ्तिखार अहमद जावेद (Dr. Iftikhar Ahmed Javed) ने कहा कि प्रदेश में गुरुवार से मदरसे खुल गए हैं और उनमें आलिमों का पढ़ाई के लिए आना शुरू हो गया है। मदरसे के ये बच्चे देश की मुख्यधारा में आएं और उनके अंदर राष्ट्रप्रेम की भावना बढ़े। इसके लिए सुबह पढ़ाई शुरू होने से पहले की जाने वाली अन्य दुआओं के साथ राष्ट्रगान गाना भी अब अनिवार्य होगा।

सामान्य स्कूली बच्चों की तरह दिखेंगे मदरसों को बच्चे

यूपी मदरसा बोर्ड (UP Madrasa Board) के चेयरमैन ने कहा कि मदरसों के बच्चे दूसरे सामान्य स्कूलों के बच्चों की तरह दिखाई दें और देश-दुनिया में अपनी पहचान बनाएं, इसके लिए बोर्ड लगातार प्राथमिकता के आधार पर काम करता रहेगा।

आपको बता दें कि यह आदेश यूपी के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री धर्मपाल सिंह के उस बयान के बाद आया है, जिसमें उन्होंने मदरसों में राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ाने की बात कही थी। राज्य के मंत्री दानिश अजाद ने भी कहा था कि सरकार चाहती है कि मदरसा के छात्र देशभक्ति के भाव से पूरी तरह भरे हों। अभी यूपी में 16,641 मदरसा हैं, जिसमें से 560 को वित्तीय अनुदान प्राप्त होता है।

Back to top button