समाचार

राजस्थान: जोधपुर में 2 समुदाय मे झड़प के बाद तनाव, धार्मिक झंडे, लाउडस्पीकर लगाने पर बढ़ा विवाद

राजस्थान में एक बार फिर दो समुदायों के बीच झड़प हुई है। इस बार राजस्थान के दूसरे सबसे बड़े शहर जोधपुर में ये घटना हुई। यहां एक समुदाय द्वारा स्वतंत्रता सेनानी की मूर्ति पर धार्मिक झंडा लगाने और लाउडस्पीकर लगा देने का बाद विवाद बढ़ गया। जिसका दूसरे समुदाय द्वारा विरोध किया गया।

जिसके बाद दोनों समुदायों में झड़प हुई और जमकर पत्थरबाजी की गई। इस झड़प में पुलिसवालों समेत कई लोग घायल हो गए हैं जबकि दर्जनों वाहनों को तोड़ दिया गया है। सोमवार शाम को हुई झड़प के बाद जोधपुर में सुबह फिर झड़प हुई, जिसके बाद यहां तनाव की स्थिति है।

इस्लामी झंडा लगाने से बढ़ा विवाद

दरअसल स्वतंत्रता सेनानी की मूर्ति पर इस्लामिक झंडा फहराने की बात को लेकर विवाद बढ़ा। उसके बाद समुदाय विशेष के लोगों ने दूसरे समुदाय के लोगों पर हमला कर दिया और जमकर मारपीट की। दरअसल जोधपुर में इन दिनों तीन दिवसीय परशुराम जयंती महोत्सव चल रहा है।

उसी कड़ी में जोधपुर के जालौरी गेट चौराहे पर स्वतंत्रता सेनानी स्वर्गीय बालमुकंद बिस्सा की मूर्ति के चौराहे पर पर भगवा ध्वज फहराए गए थे। जिसको लेकर प्रशासन ने ब्राह्मण समाज से अनुरोध कर सोमवार को दोपहर  भगवा ध्वज उतरवा लिए थे, लेकिन रात होते-होते विशेष वर्ग के लोगों ने स्वतंत्रता सेनानी के प्रतिमा पर चढ़कर इस्लामिक झंडे लगाकर उनके चेहरे को टेप से ढक दिया था।

इस बात को लेकर स्वतंत्रता सेनानी बालमुकुंद बिस्सा के रिश्तेदार और अन्य लोगों ने विशेष समुदाय के लोगों से समझाइश कर इस्लामिक ध्वज उतारने की अपील की। धार्मिक झंडा नहीं उतारने पर विवाद बढ़ता गया और इस विवाद ने हिंसा का रूप ले लिया।

नाराज समुदाय विशेष के लोगों ने पुलिस चौकी में भी तोड़फोड़ कर दी। इस दौरान पुलिस पूरी तरह बेबस नजर आई। तब तक दंगे की खबर आग की तरह फैल गई। दोनों समुदाय के लोग जालोरी गेट पहुंचने शुरू हो गए। इसी बीच उदय मंदिर थाना अधिकारी अमित सिहाग ने लाठीचार्ज शुरू कर दिया और लाठीचार्ज के साथ कई पत्रकारों को भी निशाना बनाकर उन्हें पीटा गया।

समुदाय विशेष के लोगों ने इस दौरान पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया और रास्ते में जो भी मिला उनके साथ मारपीट भी शुरू कर दी। विवाद के बाद चौराहे को बंद कर दिया गया है। तनाव को देखते हुए इंटरनेट भी बंद कर दिया गया है और अगले आदेश तक बंद रहेगी।

गहलोत ने की शांति बनाए रखने की अपील

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। गहलोत ने मंगलवार सुबह ट्वीट किया, ‘जोधपुर के जालौरी गेट के निकट दो गुटों में झड़प से तनाव पैदा होना दुर्भाग्यपूर्ण है। प्रशासन को हर कीमत पर शांति एवं व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए हैं।’

गहलोत ने लोगों ने शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा, ‘जोधपुर, मारवाड़ की प्रेम एवं भाईचारे की परंपरा का सम्मान करते हुए मैं सभी पक्षों से मार्मिक अपील करता हूं कि शांति बनाए रखें एवं कानून-व्यवस्था बनाने में सहयोग करें।’ जानकारी के अनुसार इस विवाद की शुरुआत एक चौक पर धार्मिक झंडे फहराने को लेकर हुई, जोधपुर मुख्यमंत्री गहलोत का गृहनगर भी है।

Back to top button