विशेष

दहेज के लिए महिला को 5 बार तलाक दिया, 2 बार हलाला कराया, अब अल्पसंख्यक आयोग पहुंच गया है मामला

मुस्लिम समुदाय में तीन तलाक और हलाला दहेज वसूलने का हथियार बन गया है। इस बात की मिसाल यूपी के रायबरेली में देखने को मिली जहां महिला को दहेज के उत्पीड़न करने के लिए उसे 5 बार तलाक दिया गया और उसका 2 बार हलाला कराया गया।

अल्पसंख्यक आयोग पहुंचा मामला

रायबरेली जिले के मिले थाना क्षेत्र में एक दहेज की खातिर एक महिला को 5 बार तलाक देने का मामला सामने आया है, जबकि दो बार हलाला भी कराया गया था। इस मामले की शिकायत मिल एरिया थाने में की गई थी, लेकिन किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गई थी।

जब इस मामले में पीड़िता ने अल्पसंख्यक आयोग से शिकायत की, तब केंद्रीय अल्पसंख्यक आयोग के निर्देश पर अब इस मामले पर पुलिस प्रशासन ने इस पर संज्ञान लिया है। एसपी व सीओ सिटी को इस मामले पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। पुलिस पूरे मामले पर विवेचना कर रही है साथ ही केस भी दर्ज कर रही है।

5 बार तलाक, 2 बार हलाला

मैनूपुर गांव के रहने वाली महिला का निकाह 7 अप्रैल 2015 को थाना डीह क्षेत्र के टिकारी दांदू निवासी मोहम्मद आरिफ के साथ हुआ था। लेकिन शादी के बाद से ससुराल के लोगों ने दहेज के खातिर इस महिला का उत्पीड़न करना शुरू किया। दहेज न मिलने के मामले पर पति ने महिला को 5 बार तलाक दिया था और दो बार उसका हलाला भी हुआ था।

पीड़िता ने इस बात को लेकर अपने परिवार से बातचीत की और बचाने की भी लगातार कोशिश करती रही, लेकिन दहेज मांगने वाले उत्पीड़न लगातार करते रहे। इसके बाद उस महिला को घर से भी बाहर निकाल दिया गया। पीड़िता ने इस मामले की जब पुलिस के पास केस दर्ज करवाने की बात कही तो पुलिस प्रशासन ने इस पर किसी प्रकार से भी ध्यान नहीं दिया ना ही कोई कार्यवाही करने की कोशिश की।

पीड़ित महिला के चाचा ने लगाई गुहार

महिला के इस झगड़े को लेकर जब चाचा को पता चला तो उसने अपनी भतीजी के लिए केंद्रीय अल्पसंख्यक आयोग में शिकायत दर्ज कराई। केंद्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने इस मामले पर केंद्रीय महिला आयोग को भी पत्र लिखा और इस पत्र का संज्ञान लेते हुए जिले के रायबरेली के एसपी व सीओ सिटी को इस मामले पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। फिलहाल सीओ सिटी वंदना सिंह इस मामले पर पीड़िता की दी गई तहरीर पर परिवार अन्य लोगों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज कर चार्जशीट दाखिल करेंगी और ऐसे लोगों को जल्द से जल्द सजा दिलाने की भी प्रशासन की कोशिश रहेगी।

Back to top button