समाचार

कक्षा 6 की छात्रा देगी 10वीं बोर्ड की परीक्षा! 11 साल की बच्ची की प्रतिभा देख टीचर हैं हैरान

प्रतिभा अगर प्रबल हो तो वो बड़ी-बड़ी बाधाओं को पारकर बाहर आ ही जाती है। छत्तीसगढ़ के बालोद की रहने वाली 11 साल की किसान की बेटी की प्रतिभा ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है। गांव में रहकर पढ़ने वाली इस बेटी की प्रतिभा को देखकर उसके टीचर भी हैरान हैं। कक्षा  6 में पढ़ने वाली इस बेटी ने अपने प्रतिभा का दम पर कक्षा 10 बोर्ड की परीक्षा देने का आवेदन कर दिया है। उसका आवेदन आगे बढ़ता हुआ परीक्षा बोर्ड तक पहुंच गया है।

अनोखी प्रतिभा की धनी है नरगिस

अनोखी प्रतिभा की धनी इस 11 साल की छात्रा का नाम है नरगिस खान। गांव में रहकर पढ़ाई करने वाली किसान की बेटी KG 1 से लेकर पांचवी कक्षा तक की परीक्षा में हमेशा अव्वल स्थान पर रही है। अब 6वीं की नरगिस कक्षा 10वीं की बोर्ड परीक्षा देना चाहती है।

पिता ने बढ़ाया बेटी का हौसला

कक्षा छठवीं में पढ़ने वाली नरगिस खान पीएससी टॉपर बनना चाहती है। छत्तीसगढ़ के बालोद जिला के स्वामी आत्मानंद स्कूल में कक्षा छठवीं की छात्रा है। जब बच्ची ने अपने पिता को परीक्षा देने की अनुमति की बात कही तब किसान पिता बेटी नरगिस के सपने को साकार करने में उसका साथ दिया। पिता ने बताया नरगिस दिलों जान से जुटी है। यह उसका जज्बा ही है, जिसकी बदौलत वह अपने घर से लगभग 10 किलोमीटर का सफर तय कर जिला मुख्यालय बालोद पढ़ाई करने के लिए जाती है।

प्रतिभा देख शिक्षक हैरान

नरगिस की बात सुन पिता खुश हुए और वो उसके स्कूल टीचर्स से बात करने पहुंच गए। उन्होंने बच्ची की प्रतिभा का आकलन करने का अनुरोध किया। शिक्षकों ने भी उसके पढ़ाई करने के तरीके और उसके कैचिंग पावर को समझा और पिता फिरोज खान को आगे के प्रोसेस के बारे में बताया, जिसके बाद फिरोज खान ने डीईओ बालोद को अपनी बेटी को दसवीं बोर्ड परीक्षा में शामिल करने का आवेदन दिया।

ऐसे मिली प्रतिभा को उड़ान

नरगिस कहती है कि उन्होंने इंटरनेट पर काफी कुछ सर्च किया। जब उसने काफी लोगों के बारे में पढ़ा और देखा तो उसे अपनी प्रतिभा का आकलन हुआ। नरगिस ने कहा कि यंगेस्ट यूपीएससी टॉपर भी हो सकते हैं, तो मैं क्यों नही बन सकती। यहीं सोचकर तैयारी शुरू कर दी।

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड पहुंचा आवेदन

आवेदन के बाद डीईओ ने नरगिस को सत्र 2022-23 में दसवीं की परीक्षा में शामिल करने संचालनालय को पत्र लिखा है। उन्होंने बताया कि बोर्ड एग्जाम में बैठने की अनुमति माध्यमिक शिक्षा मंडल से मिलती है। जहां आवेदन पर विचार करने के लिए एक बोर्ड बैठेगी और छात्रा का आईक्यू टेस्ट होने के बाद ही उसे अनुमति देने पर विचार करेगी। डीईओ ने भी शिक्षकों आकलन पर माना कि नरगिस खान काफी टैलेंटेड है।

Back to top button