अब राखी बन गयी कट्टरपंथियों के गलें की फांस, इरफान के पोस्ट पर फिर मचा घमासान

टीम इंडिया के पूर्व गेदबांज इरफान पठान एकबार फिर से कट्टरपंथियों के निशाने पर आ गए हैं और इस बार इस्लाम के लिए खतरा बनी है राखी। दरअसल कल रक्षाबन्धन के दिन इरफान ने त्योंहार की बधाई देते हुए ट्विटर और इंस्टाग्राम पर एक सेल्फी पोस्ट की जिसमें उनकी कलाईं पर राखी बंधी दिख रही है .. और फिर क्या! सोशल मीडिया साईट पर शुरू हो गया घमासान। धर्म विशेष के लोग उनसे नाराज हो रहे हैं और इस्लाम की दुहाई देने में लगें हैं। Irfan trolled on social media.

वसीम रजा लिखते हैं .. “आपने जो किया है, इस्लाम में ये सही नही है पठान भाई! ”

अज़ीम कह रहे हैं .. “इस्लाम में राखी नही बांधते हैं और आप तो ये जानते हैं”

और एक भाई तो इरफान को ये बता रहे हैं कि उन्हे ये सोचना चाहिए कि एक मुस्लिम होने की वजह से बीसीसीआई उन्हें खेलनें का मौका नही दे रही है।

हालांकि एक ओर जहां लोग उन्हें भलाबुरा कह रहे हैं वहीं कुछ लोग इस पोस्ट के लिए इरफान की तारीफ भी कर रहे हैं ,इसे भाई चारे का पैगाम मान रहे है ..और इरफान के फैंस के बीच ऐसी घामासान जारी है।

इससे पहले पत्नी संग फोटों पर निशाने पर आए थें

इरफान इससे पहले भी अपनी पत्नी संग ली गई फोटो के लिए कट्टरपंथियों का निशाना बन चुके हैं। हालाकिं उस तस्वीर में उनकी बीवी ने बुर्का पहन रखा था और हांथों से चेहरे को भी ढ़का था.. पर लोगों ने उस तस्वीर के लिए  इरफान को खूब ज्ञान दिया था और इस्लामिक कानून का हवाला देते हुए किसी ने नेलपॉलिश पर आपत्ति जताई तो किसी ने पत्नी की तस्वीर सोशल मीडिया पर डालने को शर्मनाक ठहराया था।

मोहम्मद शमी और मोहम्मद कैफ भी आ चुके हैं निशाने पर

इरफान की तरह भारतीय गेंदबाज मोहम्मद शमी और पूर्व क्रिकेटर कैफ भी सोशल मीडिया पर डाले गए अपने पोस्ट के लिए ट्रॉल हो चुके हैं । मोहम्मद शमी की बीवी की गाउन वाली तस्वीर पर खूब बवाल मचा था और लोगों ने शमी को इस्लाम के हद में रहने की हिदायत दी थी, वहीं मोहम्मद कैफ कई दफें इस लफङे में फंस चुके हैं कभी सूर्यनमस्कार के लिए तो कभी गैर इस्लामिक अपनी लाईफ स्टाईन के लिए ..हाल ही में कैफ अपने बेटे के साथ शतरंज खेलते हुए तस्वीर के लिए ट्रॉलर्स के शिकार बने थें और लोगों ने इसे हराम करार दिया था।

हालांकि शमी और कैफ ने ट्रोलर्स करारा जवाब दिया था पर सोचने की बात ये है कि हर बात पर धर्मविशेष की आस्था पर आंच क्यों आ जाती है.. कभी तस्वीर से खतरा हो जाता है, तो कभी खेल से ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.