विशेष

अभी 20% हैं, 50% हो जाएंगे तो हिंदुओं को शव-यात्रा निकालना होगा मुश्किल, साध्वी ने उठाए कई सवाल

फायर ब्रांड हिंदूवादी नेता साध्वी प्राची ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। मुजफ्फरनगर में मीडिया से बात करते हुए उन्होंने मुसलमानों की बढ़ती आबादी को सभी समस्या की जड़ बताया। हरिद्वार जा रही साध्वी प्राची ने दिल्ली के जहांगीरपुरी हिंसा पर बात करते हुए मुस्लिम समुदाय को लेकर टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि आज कोई भी त्यौहार हो तो चिंतन करना पड़ता है। अभी ये सिर्फ 20% हैं, जो धार्मिक यात्रा पर पत्थरबाजी करते हैं, गोलियां भी चलाते हैं। अगर ये लोग 50% हो गए, तो हिंदुओं के लिए अपनी शव-यात्रा निकालना भी मुश्किल हो जाएगा। ये चिंता का विषय है।

ओवैसी पर हमला

उन्होंने कहा कि एक समुदाय के लोग ही विशेष कर जहां हिंदुओं की यात्रां निकलती हैं, पत्थर फेंकते हैं और गोलियां भी चलाते हैं। उन्होंने AIMIM प्रमुख पर निशाना साधते हुए कहा कि हैदराबाद के एक नेता का कहना है कि एक ही संप्रदाय के लोगों पर शिकंजा कसा जा रहा है। ओवैसी इस देश को बताए कि जब पत्थर मारने वाला अब्दुल, अफजल, जाकिर और कासिम है जो कार्रवाई भी तो उन्हीं पर होगी ना।

साध्वी प्राची ने कहा कि ऐसे लोगों को फांसी की सजा होनी चाहिए। हिंदुओं के त्योहारों पर इस तरह की घटनाएं शर्मनाक हैं। वहीं उन्होंने लाउडस्पीकर विवाद को लेकर कहा कि जो लोग लाउडस्पीकर के लिए पूरी ताकत से लगे हैं, वो सुप्रीम कोर्ट की भी बात नहीं मानेंगे। उनको बस अपमान करना है।

हिंदू तीर्थ स्थलों पर मुसलमानों पर बैन लगे

उन्होंने कहा कि हिंदुओं की चार धाम यात्रा में किसी भी मुस्लिम के आने-जाने पर पूरी तरह से प्रतिबंध होना चाहिए। जब आप हज करने के लिए जाते हैं तो वहां पर गैर-मुस्लिम प्रवेश नहीं कर सकता। इसी तरह ईसाई धर्म के धार्मिक स्थल पर गैर-ईसाई प्रवेश नहीं कर सकते हैं। ऐसे में संत समाज मांग करता है कि हिंदुओं की चार धाम यात्रा पर गैर-हिंदू का प्रवेश नहीं होना चाहिए। दूसरे धर्मों की तरह हमें भी सख्ती बरतनी चाहिए।

साध्वी प्राची ने कहा कि वो उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को धन्यवाद देती हैं। उन्होंने बहुत अच्छा काम किया। दरअसल, उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को कहा है कि चार धाम यात्रा में आने वाले लोगों का पहले सत्यापन कराया जाएगा। धामी ने यह बयान संतों की उस मांग के बाद दिया था। जिसमें उन्होंने कहा था कि चार धाम क्षेत्र में गैर-हिंदुओं का प्रवेश प्रतिबंधित किया जाए।

Back to top button