समाचार

यमुना नहर में डूबने से राष्ट्रीय महिला पहलवान की मौत, दो अन्य खिलाड़ियों को बचाया गया

हरियाणा से बेहद दुखद खबर आ रही है। यहां एक प्रतिभाशाली युवा महिला पहलवान की हादसे में मौत हो गई है, लोगों ने अन्य दो महिला पहलवानों को नहर में डूबने से किसी तरह से बचा लिया। हादसा हरियाणा के पानीपत जिले में हुआ। नहर में डूबने से राष्ट्रीय स्तर की पहलवान 17 वर्षीय तनिष्का की मौत हो गई। तनिष्का रविवार सुबह हथवाला में यमुना नहर के किनारे अभ्यास करने पहुंचीं थी। इसके बाद करीब आठ बजे तनिष्का अपनी साथी पहलवान रेणु और एक 12 वर्षीय जूनियर पहलवान के साथ नहर में नहाने चली गईं।

नहर में डूबने से मौत

नहर में नहाने के दौरान तीनों गहराई में चली गईं और डूबने लगीं। यमुना नहर में डूबने से तनिष्का की मौत हो गई। वहीं उसके साथ कुश्ती का अभ्यास करने वाली दो और पहलवान भी नहर में बहने लगीं, जिन्हें ग्रामीणों ने बचा लिया लेकिन तनिष्का को नहीं बचाया जा सका।

तनिष्का के परिजनों ने पानीपत के सिविल अस्पताल के डॉक्टरों को लिखित में दिया कि वे अपनी बेटी के शव का पोस्टमार्टम नहीं कराना चाहते। इसके बार डॉक्टरों ने कागजी कार्यवाही कर तनिष्का का शव उसके परिजनों को सौंप दिया। गांव पट्टीकल्याणा में तनिष्का का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

कई पदक जीत चुकी थी तनिष्का

तनिष्का के भाई सुरेंद्र ने बताया कि उसकी बहन 17 साल की थी और कक्षा 12वीं की छात्रा थी। तनिष्का ने कुश्ती में राष्ट्रीय स्तर पर कई पदक जीते थे। वहीं तनिष्का, श्रीलंका में आयोजित होने जा रही इंटरनेशनल चैंपियनशिप में भाग लेने के लिए अभ्यास कर रही थी। रविवार को तनिष्का अपने कोच व साथियों के साथ यमुना घाट पर कुश्ती के अभ्यास के लिए गई थी।

कोच को लगा सदमा

वहीं तनिष्का के कोच ने कहा कि वो कहीं भी खेलने जाती तो उसका सिर्फ एक ही मकसद रहता था कि पदक जीतकर ही लौटना है और इसे उसने साबित भी किया था। हर कुश्ती चैंपियनशिप में वह पदक जीतकर आती थी। स्टेट कुश्ती चैंपियनशिप और स्कूली कुश्ती चैंपियनशिप में तनिष्का स्वर्ण पदक जीत चुकी थी। यही नहीं अलग-अलग प्रतियोगिताओं में दो स्वर्ण पदक के अलावा पांच रजत और कई कांस्य पदक जीत चुकी थी।

Back to top button